बीवी की अदला बदली करके सामूहिक चुदाई


group sex मेरा नाम विभा है, मेरे पति नरेन एक इंजीनियरिंग कंपनी में अच्छे पद पर हैं।

हम लोग वैसे तो पश्चिमी उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं, पर पिछले 15 सालों से नई दिल्ली में रह रहे हैं।

नरेन 40 साल के हैं, पर 35 से ज़्यादा नहीं दिखते, 5’8″ कद है, हल्के से मोटे हैं, गोरे और सुंदर हैं..।

Loading...

मेरी उम्र 35 साल है, पर 30 साल की दिखती हूँ, 5’3″ कद है, जिस्म 36-27-36 है।

हम दोनों यहाँ पर अपने कुछ दोस्तों के साथ बीवियों को आपस में अदल-बदल करके चुदाई करते हैं।

इस बीवियों की अदला-बदली करके चुदाई में दो जोड़े अपने-अपने साथी बदल कर एक-दूसरे को चोदते हैं, एक की पत्नी दूसरे आदमी के साथ चुदती
है और उसका पति किसी और की पत्नी को चोदता है।

हम नहीं जानते कि यहाँ पर हमारे अलावा और कितने जोड़े ऐसे अपनी-अपनी बीवियों को अदल-बदल कर चुदाई करते हैं। मेरे ख्याल से इसके लिए
मन तो बहुतों का होता है, और अगर अवसर मिले तो शायद इसका आनन्द भी उठाएँ।

हम लोग फ़िलहाल अपने 4 नज़दीकी मित्र-जोड़ों के साथ बीवियों की अदला-बदली करके चुदाई करते हैं और करवाते हैं। अक्सर हममें से दो-तीन जोड़े
ही एक साथ हो पाते हैं, पर कभी-कभार किसी विशिष्ट अवसर पर, जब सबको समय हो, हम पाँचों मिलते हैं, अदला-बदली करके ही चुदाई करते हैं।

हालाँकि हमारा उद्देश्य एक-दूसरे के जीवन साथी के साथ चुदाई का आनन्द उठाना होता है, पर इस में हमारी प्रगाढ़ मित्रता, यानि कि दावतें,
पिकनिक, पार्टियाँ और दूसरे के साथी के साथ हँसी-मज़ाक और सबके सामने एक-दूसरे के कपड़ों के ऊपर से जो मर्ज़ी आए, करके मज़ा लेना भी शामिल हैं।

इनके साथ दूसरे के साथी के साथ अकेले फिल्म देखने जाना, बाहर खाना खाना और फिर उसे अपने साथ चुदाई के लिए घर लाना भी शामिल होता है।

जब मेरे पति किसी और की पत्नी के साथ यही सब कर रहे हों, तो मेरे द्वारा किसी और के साथ यही सब करना अपने आप में बहुत ही रोमांटिक है।

हम 2-3 जोड़ियाँ कभी-कभी एक साथ दूसरे शहर घूमने जाते हैं तो मैं दूसरे के पति के साथ ही अलग कमरे में रहती हूँ, जैसे कि उन दिनों के लिए हमारे पति वही हों !

हमने अपनी इस जिंदगी की शुरुआत कैसे की, अब मैं यह बताना चाहूँगी।

मुझे लम्बे अरसे से यह शक था कि नरेन दूसरी औरतों को चोदने का बहुत इच्छुक था, पर कोई 5-6 साल पहले उसने कहना शुरू किया कि विभा, उमर बहुत छोटी होती है और हमें यह भी अनुभव करना चाहिए कि दूसरों के साथ चुदाई करने में कैसा मज़ा आता है क्योंकि हम दोनों ने विवाह के पहले किसी से चुदाई नहीं की थी।

वो किसी दूसरी स्त्री के साथ चुदाई का लुत्फ़ उठाना चाहता था और मुझे भी उत्साहित करता था कि मैं भी किसी दूसरे मर्द के साथ चुदाई का आनन्द उठाऊँ।
इन बातों के दौर से हमारी चुदाई में आनन्द और बढ़ गया था।

जब दोस्तों को अपने घर में बुलाते तो नरेन रसोई में मुझसे आकर बताता कि आज उसे किस दोस्त की बीवी को चोदने का मन कर रहा है। वह मुझसे भी पूछता कि आज मेरा मन किस दोस्त से चुदवाने को कर रहा है।

ये सब बातें करके हमें बड़ा मज़ा आने लगा और हम सबके जाने के बाद उस दोस्त और उसकी बीबी का नाम लेकर एक-दूसरे को चोदने लगते थे।
कुछ दिनों तक बिस्तर में चोदते समय इस बारे में बातें करते-करते मेरी भी हिम्मत बढ़ती गई और मैं दूसरे जोड़े के साथ काल्पनिक अदला-बदली चुदाई के लिए तैयार हो गई। फिर हमने ढूंढना शुरू किया और हमारी नज़र पंकज और ज़न्नत पर पड़ी जो हमारे ही पड़ोस में कुछ ही दूरी पर रहते थे।

इन कुछ सालों में हमारी उनसे दोस्ती काफ़ी गहरी हो गई है। ये दोनों भी लगभग हमारी ही उमर के थे। पंकज 38 साल का था और ज़न्नत 32 की, ज़न्नत का शरीर बहुत सुंदर (32-26-38) था। वो काफ़ी पतली थी और नयन-नक्स तीखे थे।

हम दोनों उनके स्वभाव और सुंदरता से काफ़ी प्रभावित हुए थे।

अपनी चुदाई के समय अब हम पंकज और ज़न्नत के बारे में सोचने लगे और उनके साथ चुदाई की कल्पना करने लगे।

जब भी नरेन मुझे चोदता था तो मुझसे यही कहता कि मेरी चूत कितनी रसीली और सुंदर है और मैं बड़ी आसानी से पंकज को अपने साथ चुदाई करने के लिए पटा सकती हूँ।
फिर मैंने भी नरेन से कहा कि उसका लंड इतना अच्छा है कि ज़न्नत भी उसके लंड का स्वाद लेने के लिए आसानी से आतुर हो जाएगी।

वो मुझसे पूछता कि आज मुझे किसके लंड से चुदवाना है, उसके या पंकज के…! मैं भी नरेन से पूछती कि आज उसे किसकी चूत चोदने का मन कर रहा है, मेरी या ज़न्नत की…!

नरेन ने महसूस किया कि मुझे इन बातों से बहुत मज़ा आता है और मैं खूब उत्तेजित होकर नरेन से चुदवाने लगी थी।

एक दिन तो नरेन चुदाई के दौरान मुझसे पूछने लगा- विभा, बताओ तो सही, अभी तुम्हारी चूत के अन्दर किसका लंड घुसा है?

मैं भी बिना ज़्यादा हिचक के बोली- नरेन, इस समय तो मेरी चूत पंकज के लंड का मज़ा ले रही है।

जल्द ही मैंने भी नरेन से पूछा- नरेन, तुम्हारा लंड किसकी चूत में है?
तो नरेन बड़े मज़े से बोला- ज़न्नत की ज़न्नत में है।

नरेन ने कुछ कहा नहीं पर यह ज़रूर महसूस किया कि जब मैं पंकज के साथ चुदाई की कल्पना करती हूँ, तो मेरा चुदाई में उत्साह और बढ़ जाता है और मैं नरेन से खूब ज़ोर से चुदवाती हूँ।

फिर एक दिन मैंने उससे कहा- तुम मुझे चोदते वक़्त यह कल्पना करते हो कि तुम ज़न्नत को चोद रहे हो, तो क्यों नहीं चोदते समय मुझे ज़न्नत कहकर ही पुकारो?

काफ़ी दिनों तक रोज़ हम लोग इस काल्पनिक दुनिया में एक-दूसरे को पंकज और ज़न्नत के नाम से चोदते रहे। मैं उसे पंकज पुकारती और वो मुझे ज़न्नत।

फिर लगभग आज से 5 साल पहले, एक दिन अचानक अंजाने में ही, पंकज और ज़न्नत के साथ यह कल्पना हक़ीकत में बदल गई।
एक दिन पंकज और ज़न्नत ने हमें रात को डिनर पर बुलाया।

हम उनके घर गए और वहाँ नरेन और पंकज ने साथ बैठ कर थोड़ी व्हिस्की पी। मैंने और ज़न्नत ने भी थोड़ी सी ली।

तभी एकाएक पंकज ब्लू-फ़िल्मों के बारे में बात करने लगा, चूँकि उसे भी पता था कि हम दोनों ऐसी पिक्चर अक्सर देखा करते हैं।

पंकज ने नरेन से पूछा- क्या तुमने कभी कोई इंडियन ब्लू-फिल्म देखी है? ऐसी फिल्म देखने में बड़ा मज़ा आता है।

नरेन ने पंकज को बताया- अब ऐसी फ़िल्में अब धीरे-धीरे सभी जगह पर मिलने लगी हैं और हमने कुछ देखी भी हैं। ये ज़्यादा मज़ेदार होती हैं
क्यूंकि साड़ी और पेटीकोट उठा कर भारतीय औरतों को अलग-अलग लोगों से अपनी ज़न्नत चुदवाते देखने में अलग ही आनन्द आता है। जब भारतीय औरतें अपनी सुंदर सा मुँह खोल कर किसी का लंड चूसती हैं तो अपना लंड तो खड़ा हो जाता है।
नरेन ने पंकज को बताया- हमारी कार में एक वीडियो सीडी पड़ी है जो हम वापस लौटने वाले थे।
उसने कहा- अगर तुम चाहो तो उसे वापस करने के पहले देख सकते हो !

क्योंकि ज़न्नत ने भी कभी भारतीय ब्लू-फिल्म नहीं देखी थी, पंकज ने उसे सुझाव दिया कि वे दोनों उसे अपने बेडरूम में देख लेंगे और हमारी वापसी पर लौटा देंगे।

नरेन ने उन्हें उत्साहित करते हुए कहा- हम दोनों तब तक कोई दूसरी हिन्दी फिल्म वही ड्राइंग-रूम में देखेंगे।

पर पंकज ने कहा- यह तो बदतमीज़ी होगी और चूँकि हम सब व्यस्क हैं, हम सब को ब्लू-फिल्म का आनन्द एक साथ उठाना चाहिए। हालाँकि नरेन और मुझे इसमें कोई इतराज़ नहीं था, पर ज़न्नत कुछ शंका में लग रही थी।

उसके बाद ज़न्नत के साथ मैं रसोई में गई और उसे हिम्मत दी कि नज़दीकी दोस्तों के साथ ऐसी फिल्म देखने में कोई हर्ज़ नहीं है।
हम रसोई से कुछ और ड्रिंक्स लेकर आए।

कुछ समय बाद ज़न्नत ने हल्के से कह ही दिया कि उसे फिल्म देखने में कोई ऐतराज़ नहीं है।

नरेन बाहर जाकर कार से सीडी निकाल लाया जिसका नाम ‘बॉम्बे-फैंटेसी’ था।

हम सब उनके बेडरूम में चले गए। मैं और नरेन सोफे पर बैठ गए और पंकज और ज़न्नत अपने बिस्तर पर।

पंकज ने लाइट बंद करके फिल्म चालू कर दी। हम लोगों ने ये फिल्म देखी हुई थी, जिसमें दो मर्द और दो औरत के एक ही बिस्तर पर चुदाई की कहानी थी।

हम शान्ति से सोफे पर बैठ कर पंकज और ज़न्नत के भाव पढ़़ने की कोशिश कर रहे थे।
कमरे में टीवी की रोशनी के अलावा अंधेरा था।

कुछ देर में हमें लगा कि पंकज और ज़न्नत गर्म हो रहे थे और उन्होंने अपने आप को कम्बल से ढक लिया था। ऐसा लग रहा था कि जैसे पंकज, ज़न्नत के साथ चुदाई से पूर्व की हरकतों में मशगूल हो गया था।
यह देख कर नरेन भी गर्म हो गया और मुझे चूमने लगा, मेरी चूचियों से खेलने लगा।
अब पंकज और ज़न्नत अपने आप में इतने व्यस्त थे कि उनका ध्यान हमारी ओर नहीं था।
यह जान मैंने भी नरेन के लंड को हाथों में लेकर दबाना शुरू कर दिया। नरेन ने भी अपना हाथ मेरी ज़न्नत पर रख दिया और हम भी पंकज और ज़न्नत के बीच चल रहे संभावित खेल में शामिल हो गए।
अचानक नरेन ने देखा कि पंकज और ज़न्नत के ऊपर से कम्बल एक ओर सरक गया था और उसकी नज़र पंकज के नंगे चूतड़ों पर पड़ी।
ज़न्नत की साड़ी उतर चुकी थी और पंकज ज़न्नत के ऊपर चढ़ा हुआ था, वे दोनों पूरी तरह चुदाई में लग गए थे, पंकज अपना 8″ का खड़ा लंड ज़न्नत की चूत में घुसेड़ चुका था और अपने हाथों से ज़न्नत की चूचियों को मसल रहा था।
यह देख कर नरेन ने कहा- चलो तुम भी मेरी ज़न्नत बन जाओ !
और यह कह कर नरेन मेरे दोनों कबूतरों को पकड़ कर कस-कस कर मसलने लगा, पर मैं शर,आ रही थी क्योंकि पंकज और ज़न्नत की तरह हमारे पास हमारे नंगे बदन को ढकने के लिए कुछ नहीं था।
पर थोड़ी ही देर में मैं भी चुदाई की चलती हुई फिल्म, अपनी चूची की मसलाई और पंकज और ज़न्नत की खुली चुदाई से काफ़ी गर्म हो गई और नरेन से मैं भी अपनी चूत चुदवाने के लिए तड़पने लगी।
अब पंकज और ज़न्नत के ऊपर पड़ा हुआ कम्बल बस नाम मात्र को ही उनके नंगे बदनों को ढक रहा था। ज़न्नत की नंगी चूची और उसका पेट और नंगी जाँघें साफ-साफ दिख रही थीं।
पंकज इस समय ज़न्नत के ऊपर चढ़ा हुआ था और अपनी कमर उठा-उठा कर जन्नत की चूत में अपना 8″ का लंड पेल रहा था और ज़न्नत भी अपनी पतली कमर उठा-उठा कर पंकज के हर धक्के को अपनी चूत में ले रही थी और धीरे-धीरे बड़बड़ा रही थी जैसे ‘हाईईईईईईई, और जूऊऊर सीईई चोदूऊऊ, बहुउऊुउउट मज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ा आआआआ र्हईईईई हाईईईई..!’
यह देख कर मेरी चूत गीली हो गई और मैं भी नरेन से वहीं सोफे पर चुदवाने को राज़ी हो गई।
मेरी रज़ामंदी पाकर नरेन मुझ पर टूट पड़ा और मेरी दोनों चूचियों को लेकर पागलों की तरह उन्हें मसलने और चूसने लगा।
मैं भी अपना हाथ आगे ले जाकर नरेन का तना हुआ लंड पकड़ कर सहलाने लगी।
जब मैं नरेन के लंड तो सहला रही थी तो मुझे लगा कि आज नरेन का लंड कुछ ज़्यादा ही अकड़ा हुआ है।
नरेन ने तेज़ी से अपने कपड़े उतारे और मेरे ऊपर आते हुए मेरी भी साड़ी उतारने लगा।
कुछ ही देर में हम दोनों सोफे पर पंकज और ज़न्नत की तरह नंगे हो चुके थे।
टीवी की धुंधली रोशनी में भी इतना तो साफ दिख रहा था कि कम्बल अब पूरी तरह से हट चुका था और पंकज खुले बिस्तर पर हमारे ही सामने ही ज़न्नत को जमकर चोद रहा था।
ज़न्नत भी अपने चारों तरफ से बेख़बर हो कर अपनी कमर उठा-उठा कर अपनी चूत चुदवा रही थी।
मेरे ख्याल से पंकज और ज़न्नत की खुल्लम-खुल्ला चुदाई देख कर मैं भी अब बहुत गर्म हो चुकी थी और नरेन से बोली- अब जल्दी से तुम मुझे भी पंकज की तरह चोदो, मैं अपनी चूत की खुजली से मरी जा रही हूँ।
मेरी बात खत्म होने से पहले ही नरेन का तनतनाया हुआ लौड़ा मेरी चूत में एक जोरदार धक्के के साथ दाखिल हो गया।
नरेन अपने लंड से इतने ज़ोर से मेरी चूत में धक्का मारा कि मेरी मुँह से एक ज़ोरदार चीख निकल गई।
मैं तो इतनी ज़ोर से चीखी जैसे कि उसका लंड मेरी चूत के अन्दर पहली बार गया हो !
एकाएक पूरा माहौल ही बदल गया। मेरी चीख से पंकज और ज़न्नत को भी पता लग गया था कि हम दोनों भी उसी कमरे में हैं और अपनी चुदाई में लग चुके हैं।
यह हमारे जीवन के एक नए अध्याय की शुरुआत थी जिसने कि हमें अदला-बदली करके चुदाई के आनन्द का रास्ता दिखाया।
मेरी चीख सुनकर ज़न्नत ने पंकज का लंड अपनी चूत में लेते हुए धीरे से बोली- लगता है कि नरेन और विभा ने भी अपनी चुदाई शुरू कर दी है।
यह सुनकर पंकज ने आवाज़ दी- क्या नरेन, क्या चल रहा है? क्या तुम और विभा भी वही कर रहे हो जो हम दोनों कर रहे हैं?
नरेन ने जवाब दिया- क्यों नहीं, तुम दोनों का लाइव शो देख कर कौन अपने आप को रोक सकता है। इसीलिए मैं और विभा भी वही कर रहे हैं जो इस वक्त तुम और ज़न्नत कर रहे हो यानी तुम ज़न्नत को चओ रहे हो और मैं विभा को चोद रहा हूँ।
पंकज बोला- अगर हम लोग सभी एक ही काम रहे हैं तो फिर एक-दूसरे से क्या छिपाना और क्या परदा? खुले मंच पर आ जाओ, नरेन। आओ हम लोग एक ही पलंग पर अपनी-अपनी बीवियों को चित्त लेटा करके उनकी टाँगें उठा के उनकी चूतों की बखिया उधेड़ते हैं।
नरेन ने पूछा- तुम्हारा क्या मतलब है, पंकज?
“मेरा मतलब है कि तुम लोगों को सोफे पर चुदाई करने में मुश्किल आ रही होगी, क्यों नहीं यहीं पलंग पर आ जाते हो हमारे पास, आराम रहेगा और ठीक तरीके से विभा की सेक्सी चूत में अपना लंड पेल सकोगे, मतलब विभा को चोद सकोगे।”
उसकी बात तो सही थी कि हम वाकयी सोफे पर बड़ी विचित्र स्थिति में थे।
नरेन ने मुझसे पूछा- पलंग पर ज़न्नत के बगल में लेट कर चूत चुदवाने में कोई आपत्ति है?
मैंने कहा- नहीं…! बल्कि मैं तो उन दोनों की चुदाई देख कर काफ़ी चुदासी हो उठी थी और उनकी चुदाई को नज़दीक से देखना चाह रही थी।
टीवी की धीमी रोशनी में मैं यह सोच रही थी कि एक ही पलंग पर पर लेट करके ज़न्नत के साथ साथ चूत चुदवाने में कोई परेशानी नहीं, पर मुझे आने वाली घटना का अंदेशा नहीं था।
नरेन ने मेरा हाथ अपने हाथ में लिया और पलंग पर ले गया, जहाँ पंकज और ज़न्नत चुदाई में लगे थे।
हमें आता देख पंकज ने अपनी चुदाई को रोक कर हमारे बिस्तर पर आने का इंतज़ार करने लगा।
पंकज ने ज़न्नत की चुदाई तो रोक लिया था लेकिन अपना लंड ज़न्नत की चूत से नहीं निकाला था, वो अभी भी ज़न्नत की चूत में जड़ तक घुसा हुआ था और पंकज और ज़न्नत की झांटें एक-दूसरे से मिली हुई थीं।
नरेन ने पलंग के नज़दीक पहुँच कर मुझे ज़न्नत के पास चित्त हो कर लेटने को कहा।
जैसे ही मैं ज़न्नत के बगल में चित्त हो कर लेटी, पंकज मुझे छूकर उठा और कमरे की लाइट जलाकर वापस बिस्तर पर आ गया।
हम लोगों को एकाएक सारा का सारा माहौल बदला हुआ नज़र आने लगा।
हम चारों एक ही पलंग पर चमकती रोशनी में सरे-आम नंग-धड़ंग चुदाई में लगे हुए थे।
पंकज और ज़न्नत बिना कपड़ों के काफ़ी सुंदर लग रहे थे, ज़न्नत की चूचियाँ छोटी-छोटी थीं पर चूतड़ काफ़ी बड़े थे। उसकी छोटी-छोटी झांटें बड़ी सफाई से उसकी सुंदर चूत को ढके हुए थीं।
कमरे की हल्की रोशनी में ज़न्नत की चूत जो कि इस समय पंकज का लंड से चुद रही थी, काफ़ी खुली-खुली सी लग रही थी।
मैंने कमरे की चमकती रोशनी में पंकज के खड़े लंड को ज़न्नत की चूत के रस से चमचमाते हुए देखा, उसका लंड नरेन से थोड़ा लम्बा रहा होगा, पर नरेन का लंड उससे कहीं ज़्यादा मोटा था।
नरेन भी ज़न्नत को नंगी देख कर बहुत खुश था।
मुझे याद आया कि नरेन को हमेशा छोटे मम्मों और बड़े चूतड़ों वाली औरतें पसंद थीं।
मैंने पंकज को अपने नंगे जिस्म को भारी नज़रों से आँकता पाया और उसे शर्तिया मेरे भारी मम्मे और गोल-गोल भरे-भरे चूतड़ भा गए थे।
पंकज ने बिस्तर पर आकर ज़न्नत की खुली जांघों के बीच झुकते हुए अपना लंड उसकी गीली चूत से फिर से भिड़ा दिया।
ज़न्नत ने भी जैसे ही पंकज का लंड अपनी चूत के मुँह में देखा तो झट से अपनी टाँगों को ऊपर उठा दिया और घुटने से अपने पैरों को पकड़ लिया।
अब ज़न्नत की चूत बिल्कुल खुल गई और पंकज ने एक ज़ोरदार झटके के साथ अपना लंड ज़न्नत की चूत में डाल दिया।
यह देख नरेन ने भी अपना लंड अपने हाथ से पकड़ कर मेरी चूत के छेद से लगाया और एक झटके के साथ मेरी चूत के अन्दर घुसेड़ कर मुझे चोदने लगा।
पंकज हालाँकि ज़न्नत को बहुत ज़ोर से चोद रहा था पर उसकी नज़र मेरी चूत पर टिकी हुई थी।
नरेन का भी यही हाल था और उसकी नज़र ज़न्नत की चुदती हुई चूत पर से हट नहीं पा रही थी!
मुझे पंकज के सामने अपने पति के साथ चुदाई करने में बहुत मज़ा आ रहा था और अब मैं भी गर्म होकर अपनी कमर उचका-उचका कर नरेन का लंड अपनी चूत में डलवा रही थी। मेरे बगल में ज़न्नत भी अपनी टाँगों को उठा करके पंकज का लंड अपनी चूत से खा रही थी।
पलंग पर चार लोगों के लिए जगह कम थी और हमारे जिस्म एक-दूसरे से टकरा रहे थे। ज़न्नत का पैर मेरे पैर से और नरेन की जाँघ पंकज के जाँघ से छू रही थी।
थोड़ी देर तक मैं अपनी चूत चुदवाते हुए ज़न्नत को देख रही थी और थोड़ी देर के बाद मैंने अपना हाथ आगे बढ़ा कर ज़न्नत का हाथ पकड़ लिया।
ज़न्नत ने खुशी का इज़हार करते हुए मेरे हाथ को दबाया और अपनी कमर उचकाते हुए मेरी तरफ देख कर मुस्कुराई।
यह देख पंकज ने अपना हाथ बढ़ा कर मेरे पेट, पर मेरी चूत से थोड़ा ऊपर रख दिया। मुझे पंकज का हाथ अपने पेट पर बहुत अच्छा लगा और मैंने पंकज से कुछ नहीं कहा।
पंकज की हरकत देख कर नरेन ने भी अपना हाथ ज़न्नत की जाँघ पर उसकी चूत के पास रख दिया और ज़न्नत की जाँघों को हल्के-हल्के से सहलाना और दबाने लगा। पंकज और नरेन की इन हरकतों से हम सब में एक नई तरह की चुदास भर गई और दोनों मर्द हम दोनों औरतों को ज़ोर-ज़ोर से चोदना शुरू कर दिया।
अचानक नरेन को हमारा वो वार्तालाप याद आया जिसमे हम किसी दूसरे जोड़े के साथ चुदाई की कल्पना करते थे, नरेन ने मुझसे पूछा- विभा क्या तुम आज किसी नई चीज़ का आनन्द उठाना चाहोगी?
मैंने नरेन से पूछा- तुम्हारा क्या मतलब है नरेन? तुम और किस नए आनन्द की बात कर हो? अभी तो मुझे ज़न्नत के साथ उसके पलंग पर लेट कर तुमसे अपनी चूत चुदवाने में बहुत आनन्द मिल रहा है।
तब नरेन मुस्कुराते हुए मेरी चूचियों को अपने हाथों से मसलते हुए बोला- आज पंकज से चुदवाने का मज़ा लेने के बारे में तुम्हारा क्या ख्याल है?
मैं और नरेन कल्पना में पंकज और ज़न्नत के साथ इतनी बार एक-दूसरे को चोद चुके थे कि ये सब बातें मेरे लिए नई नहीं थीं।
इसलिए मैं नरेन से बोली, “नरेन, आज मेरी चूत इतनी गर्म हो चुकी है कि मुझे इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता कि आज मुझे कौन चोदता है, तुम या पंकज.. बस मुझे अपनी चूत में कोई ना कोई लंड की ठोकर चाहिए और वो लंड इतनी ठोकर मारे कि मैं जल्दी से झड़ जाऊँ। इस समय मैं अपनी चूत की खुजली से बहुत परेशान हूँ।
यह सुनते ही नरेन ने पंकज की ओर मुड़ कर कहा- पंकज, क्या तुम आज एक नए आनन्द के लिए विभा की चूत में अपना लंड डालना चाहोगे? क्या तुम आज विभा को चोदना चाहोगे?
नरेन की बात सुन कर पंकज झटपट ज़न्नत की चूत में चार-पाँच कस-कस कर धक्के मारे और ख़ुशी से बोला, “ज़रूर नरेन, पर अगर ज़न्नत भी एक नए आनन्द के लिए तुम से अपनी चूत चुदवाना कहती है तो !
जब मैंने देखा कि पंकज और नरेन अपनी-अपनी बीवियों को एक-दूसरे से चुदवाना चाहते हैं, तो फिर मैंने हिम्मत करके ज़न्नत से पूछा- ज़न्नत, क्या तुम भी एक नया आनन्द लेना चाहती हो, नरेन का लंड अपनी चूत में डलवा करके उससे चुदवाना चाहती हो?
ज़न्नत थोड़ी देर तक सोचने के बाद पंकज के गले में अपनी बाँहों को डाल कर और उसके सीने से अपनी चूचियों को रगड़ते हुए बोली- क्यूँ नहीं..! अगर दूसरे मर्द के साथ विभा अपनी चूत चुदवा सकती है और यह विभा के लिए ठीक है तो मुझे क्यों फ़र्क पड़ना चाहिए? मैं भी नरेन के लंड से अपनी चूत चुदवाना चाहती हूँ और यह भी देखना चाहती हूँ कि पंकज का लंड कैसे विभा की चूत में घुसता है और निकलता है और कैसे विभा अपनी चूत पंकज से चुदवाती है। आज मैं भी विभा की तरह छिनाल बनना चाहती हूँ और किसी दूसरे मर्द का लंड अपनी चूत में पिलवाना चाहती हूँ।
और यही हम लोगों की अदला-बदली चुदाई का आगाज़ था।
ज़न्नत की बातों को सुनकर पंकज ने अपना लंड ज़न्नत की चूत से बाहर खींच लिया और नरेन से बोला- चल अब हम अपनी-अपनी बीवियाँ बदल कर उनकी चूत को चोद-चोद कर उनका भोसड़ा बनाते हैं।
पंकज की बात सुनकर नरेन ने भी अपना लंड मेरी चूत में से निकाला और ज़न्नत की ओर बढ़ गया।
पंकज भी अपने हाथ से अपना लंड पकड़ कर मेरे पास आया, मेरे पास आकर मेरी जांघों के बीच झुकते हुए उसने पहले मेरी चूत पर एक जोरदार चुम्मा दिया और फिर अपना लंड मेरी कुलबुलाती हुई चूत में लगाया और एक धक्के के साथ अपना लंड मेरी चूत के अन्दर घुसेड़ दिया।
मैंने भी अपनी कमर उचका कर पंकज का पूरा का पूरा लंड अपनी चूत में डलवा लिया। फिर मैं अपनी चूत में पंकज का लंड लेती हुई और नरेन को भी ज़न्नत की चूत में अपना लंड घुसा कर ज़न्नत की चुदाई शुरू करते हुए देखने लगी।
नरेन और ज़न्नत दोनों बड़े जोश के साथ एक-दूसरे को चोद रहे थे।
जितना तेज़ी से नरेन अपना लंड ज़न्नत की चूत में घुसेड़ता उतनी ही तेज़ी से ज़न्नत भी अपनी कमर उचका कर नरेन का लंड अपनी चूत में ले रही थी। मैं एक नया लंड अपनी चूत में डलवा कर बहुत खुश थी और खूब मज़े से पंकज का लंड अपनी चूत में पिलवा रही थी।
पंकज का लम्बा लंड मेरी चूत के खूब अन्दर तक जा रहा था और मुझे पंकज की चुदाई से बहुत मज़ा मिल रहा था। पंकज भी मेरी चूचियों को अपने दोनों हाथों से मसलते हुए मुझे चोद रहा था।
मैं बार-बार नरेन के मोटे लंड को ज़न्नत की चूत में जाता हुआ देख रही थी। नरेन भी मेरी चूत को पंकज के लंड से चुदते हुए बिना परेशानी के देख रहा था।
ज़न्नत भी नरेन के लंड को मेरी चूत मैं अन्दर-बाहर होते देख रही थी और पंकज सिर्फ़ मेरी बिना झांटों वाली चिकनी चूत को देख कर उसे चोदने में पूरा ध्यान लगाए हुए था।
इस समय मुझे लगा कि दुनिया में अपने पति को अपनी सबसे चहेती सहेली को चोदते हुए देखने का सुख अपरम्पार है और तब जबकि मैं खुद भी उसी बिस्तर पर उस सहेली के पति से अपने पति के सामने खुल्ल्म-खुल्ला चुदवा रही होऊँ।
कमरे में सिर्फ हमारी चुदाई की आवाज़ गूँज रही थी।
ज़न्नत अपनी चूत में नरेन का लंड पिलवाते हुए हर धक्के के साथ ‘श.. श.. आ.. आ..’ कर रही थी और बोल रही थी- हाय नरेन क्या मस्त चोद रहे हो… और ज़ोर-ज़ोर से चोदो मुझे, बहुत दिनों के बाद आज मेरी कायदे से चुद रही है… हाय क्या मस्त लौड़ा है तुम्हारा… मेरी चूत… लग रही है आज फट ही जाएगी… तुम रुकना मत.. मुझे आज खूब चोदो… चोद-चोद कर मेरी चूत का भोसड़ा बना दो।
नरेन भी ज़न्नत की चूची दबाते हुए अपनी कमर उठा-उठा कर हचक-हचक कर ज़न्नत को चोद रहा था और बोल रहा था- हाय मेरी चुदक्कड़ रानी… आज तक तूने पंकज का लंड खाया है, आज तुझे मैं अपने लंड से चोद-चोद कर तेरी चूत का बाजा बजा दूँगा… आज तेरी चूत की खैर नहीं…!
इधर पंकज मेरी चूत चोदते हुए बोल रहा था- हाय मेरी जान.. तुम इतने दिन क्यों नहीं मुझसे चुदवाई… आज तेरी चूत देख.. मैं कैसे चोदता हूँ… तेरी चूत मेरे लंड के लिए ही बनी हुई है… आज के बाद तू सिर्फ़ मुझसे चुदवाएगी… ले ले मेरे लंड की रानी.. ले.. मेरे लंड की ठोकर खा.. अपनी चूत के अन्दर… मज़ा आ रहा कि नहीं.. मेरी जान.. बोल ना..! बोल.. कुछ तो बोल…!
पूरे कमरे में बस पक… पक.. पका.. पक.. की आवाज़ गूँज रही थी।
तभी अचानक पंकज ने मुझे चोदते-चोदते अचानक चोदना बंद कर दिया और अपना लंड मेरी चूत से निकाल कर के मुझे पलंग पर से उठने के लिए बोला। जैसे ही मैं पलंग पर से उठी तो पंकज झट मेरी जगह पर लेट गया और मुझे अपने ऊपर खींच करके मुझसे उस पर चढ़ कर के चोदने के लिए बोला।
मैं तो गर्म थी ही और इसलिए मैं पंकज की कमर के दोनों तरफ अपने हाथों को रख कर के पंकज के लंड को अपने हाथों से पकड़ के उसके सुपारे पर एक चुम्मा दिया और पंकज के ऊपर चढ़ गई, अपने हाथों से पंकज का लंड पकड़ के अपनी चूत के छेद से भिड़ा दिया।
पंकज ने भी नीचे से मेरी दोनों चूचियों को अपने हाथों से पकड़ कर उनको दबाते हुए नीचे अपना कमर उठा कर के अपना लंड मेरी चूत के अन्दर पेल दिया।
मैं पंकज के ऊपर बैठ कर उसके लंड को अपने चूत में लेती हुई मुड़ कर देखने लगी कि नरेन ने भी ज़न्नत की चूत मारने का आसान बदल लिया है और वो अब ज़न्नत को घोड़ी बना करके उकडूँ होने के लिए कह रहा था। उसके बाद नरेन ने ज़न्नत के बड़े चूतड़ों को पकड़ कर उसे पीछे से चोदना शुरू कर दिया।
ज़न्नत घोड़ी बन कर नरेन के धक्कों का जवाब देने लगी और मैं भी पंकज को ऊपर से तेज़ी से पंकज को चोदने लगी। थोड़ी ही देर में हम चारों एक साथ झड़ गए।
झड़ते समय पंकज ने मुझे अपने से चिपका लिया और अपना लंड जड़ तक मेरी चूत में घुसेड़ कर अपना पूरा का पूरा माल मेरी चूत की गहराई में छोड़ दिया।
उधर नरेन भी ज़न्नत को अपने चिपका कर ज़न्नत की चूत अपने लंड के पानी से भर दिया। झड़ते वक़्त मैं और ज़न्नत ने अपने हाथों से पंकज और नरेन को अपने से सटा लिया था और जैसे ही चूत के अन्दर लंड का फुव्वारा छूटा.. चूत ने भी अपनी अपना रस छोड़ दिया।
अपनी इस पहली अदला-बदली चुदाई के बाद हम सब बहुत थक गए और थोड़ी देर तक अपनी जगह पर लेट कर और बैठ करके सुस्ताने लगे।
पंकज अपना लंड मेरी चूत से बिना निकाले मेरे ऊपर ही पड़ा रहा और अपने हाथों से मेरी चूचियों से खेलता रहा और कभी-कभी मेरी होंठों पर चुम्मा दे रहा था, मैं भी पंकज को चुम्मा दे रही थी।
उधर नरेन भी ज़न्नत की चूत से अपना लंड बिना निकाले उसकी चूचियों को चूस रहा था।
थोड़ी देर के बाद जब सांस थोड़ी सी ठीक हुई तब हम लोग बिना कपड़े पहने नंगे ही ड्राइंग-रूम में आए, कमरे में आकर पंकज ने मुझे अपनी बाँहों में ले लिया और मेरी चूचियों से खेलने लगा।
उधर नरेन ने ज़न्नत को पीछे से पकड़ा और अपना झड़ा हुआ लंड उसके नंगे चूतड़ों से रगड़ने लगा।
मैं और ज़न्नत दोनों पंकज और नरेन की नंगी गोद में बैठ कर अपने अपने हाथों को पीछे करके उनके लंड को सहलाना शुरू कर दिया।
तभी पंकज ने ज़न्नत से एक गिलास पानी माँगा, ज़न्नत नंगी ही रसोई की तरफ चल दी और नरेन भी उसके पीछे-पीछे चल दिया।
पंकज एक सोफे पर बैठ गया और मुझे खींच कर अपनी गोद में बिठा लिया। मेरे नंगे चूतड़ उसके लम्बे लंड से छू रहे थे। नरेन और ज़न्नत रसोई से ड्रिंक्स और खाने का सामान लेकर वापस आए।
नरेन ने भी ज़न्नत को अपनी गोद में अपने लंड पर बिठा लिया और उसके चूतड़ों से खेलने लगा। इस तरह से दोनों लोग एक-दूसरे की पत्नियों के नंगे बदन से जी भर के खेलने लगे।
अचानक नरेन ने पंकज से पूछा- पंकज, बताओ तुमको विभा कैसी लगी, खास कर उसकी चूत तुम्हें पसंद आई या नहीं?
पंकज ने उत्तर दिया- क्या बात करते हो नरेन..! विभा को चोदने में तो मज़ा आ गया… अपने चूतड़ उठा-उठा कर… क्या चुदवाती है..! और सबसे मज़ा विभा की चूची मसलने में है, क्या मस्त चूची है विभा की…! कब से मैं ऐसी मस्त बड़ी-बड़ी चूचियों वाली औरत को चोदने के चक्कर में था, पर तुम बताओ कि तुम्हें ज़न्नत को चोदने में कैसा मज़ा आया?
नरेन बोला- यार पंकज, मुझे भी ज़न्नत की कसी हुई चूत चोदने में बड़ा मज़ा आया… मेरा लंड ज़न्नत की चूत में फँस-फँस कर घुस रहा था। ज़न्नत जब अपनी टांग उठा कर अपनी चूत में मेरा लंड पिलवा रही थी तब मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। मैं भी बहुत दिनों से एक छोटी-छोटी चूचियों और बड़े-बड़े चूतड़ों वाली औरत को चोदने के सपने देख रहा था। चाहो तो विभा से पूछ लो।
मैंने कहा- हाँ नरेन को तो बस ज़न्नत जैसी बीवी चाहिए थी। नरेन अपनी औरत को उल्टा लिटा करके पीछे से चूत में चोदना पसंद करता है और साथ ही साथ उसके भारी-भारी चूतड़ों से खेलना पसंद करता है।
यह सुन कर ज़न्नत बोली- अच्छा तो नरेन को मेरे जैसी और पंकज को विभा जैसी बीवी चाहिए थी, फिर हम क्यों ना एक-दूसरे से जीवन भर के लिए पति और पत्नी को बदल लें? वैसे मुझे भी नरेन के लंड की चुदाई बहुत अच्छी लगी। चूत चुदवाते वक़्त लग रहा था कि मेरी चूत पूरी की पूरी भर गई है।
नरेन तब झुक कर ज़न्नत के होंठों को चूमते हुआ बोला- ज़न्नत, थैंक्स फॉर दि कॉंप्लिमेंट्स… वैसे सारी उम्र का तो मैं नहीं जानता, पर मैं विभा को ज़न्नत से बदलने के लिए हमेशा तैयार हूँ। मुझे ज़न्नत की चूत में लंड पेलना बहुत अच्छा लगा।
यह सुन कर पंकज बोला- यार नरेन, क्या बात है। तूने तो मेरे मन की बात कह डाली। तुम भी जब चाहो ज़न्नत के साथ मज़ा ले सकते हो, उसकी चूत चाट सकते हो, उसकी चूत चोद सकते हो, चाहो तो तुम ज़न्नत की गान्ड में अपना लंड भी घुसेड़ सकते हो। नरेन, कल शनिवार है और अगर तुम चाहो तो विभा को मेरे पास ही कल तक रहने दो और तुम विभा की जगह ज़न्नत को अपने साथ घर ले जाओ।
नरेन ने उत्तर दिया- पंकज, इससे अच्छी और क्या बात हो सकती है। मैं विभा को तुम्हारे पास छोड़ जाता हूँ और तुम ज़न्नत को कल शाम को आकर ले जाना, लेकिन पहले हम लोगों को ज़न्नत और विभा से भी पूछ लेना चाहिए कि उनकी क्या राय है। क्या वो अपने पति की गैर मौजूदगी में किसी और के लंड अपने चूत में पिलवाना चाहेंगी या नहीं?
नरेन की बात सुन कर ज़न्नत सबसे पहले बोली- विभा की बात तो मैं जानती नहीं, लेकिन मुझे जब नंगी करके पंकज के सामने एक बार नरेन चोद चुका है तो मुझे अब कोई फरक नहीं पड़ता कि नरेन दोबारा मुझे पंकज की गैर मौजूदगी में चोदता या पंकज के सामने चोदता। मुझे तो इस समय बस नरेन की चुदाई की खुमारी चढ़ी हुई है और मैं फिर से नरेन के लंड अपने चूत में पिलवाना चाहती हूँ।

ज़न्नत की बातों को सुन कर मैं भी तब पंकज के लंड को अपने हाथों से मरोड़ते हुए बोली- हाय मेरी छिनाल ज़न्नत रानी, तू एक बार नरेन का लंड खाकर ही उस पर फिदा हो गई? कोई बात नहीं, जा मैं आज और कल तक के लिए तुझे नरेन का लंड में दिया… जा तू अपनी चूत मेरे प्यारे नरेन के लंड से चुदवा या अपनी गान्ड मरवा… मैं आज रात तेरे पति के लण्ड से अपना काम चला लूँगी। वैसे ज़न्नत मेरी जान, तेरा ठोकू खूब दम से ठोकता है अपना लंड। मुझे तो मज़ा आ गया और तुम लोगों के जाने के बाद मैं तो पंकज से फिर अपनी चूत में उसका लंड ठुकवाऊँगी।
ज़न्नत और मेरी बातों को सुन कर पंकज और नरेन बहुत खुश हो गए और हम लोगों को ढेर सारी चुम्मियाँ दीं और चूचियाँ मसलीं।
फिर नरेन ज़न्नत को मेरे कपड़े पहना कर अपने साथ ले गया और मुझे पंकज के पास नंगी छोड़ गया। सच बताऊँ तो पंकज और मैं अपने इस पहली अदला-बदली चुदाई के अनुभव से इतने उत्साहित हुए कि नरेन और ज़न्नत के घर से जाते ही फिर से चुदाई में लग गए।
बाद में नरेन ने बताया कि उसने भी घर जाकर सारी रात ज़न्नत को मेरे बिस्तर पर पटक कर खूब चोदा।
नरेन और ज़न्नत के जाते ही पंकज ने सबसे पहले मुझको अपने बाँहों में लेकर के खूब चूमा और मेरी दोनों चूचियों को दबाया, मसला और चूसा फिर मुझे अपनी गोद में नंगी ही उठा लिया और बिस्तर पर ले आया।
बिस्तर पर लाकर पंकज ने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और खुद मेरे बगल में लेट कर मेरी चूचियों को दबाते हुए बोला- विभा मेरी जान, मैं तुम्हें आज सारी रात जैसा तुम चाहोगी वैसे चोद कर पूरा मज़ा देना चाहता हूँ। बोलो आज रात मेरे साथ तुम अपनी चूत कैसे चुदवाना चाहती हो?
मैंने भी पंकज के मुँह से अपनी एक चूची लगाती हुए बोली- तो फिर मैं जैसे कहूँ वैसे मुझे धीरे-धीरे चोद कर सारी रात मुझे और मेरी चूत को मज़ा दो।
पंकज ने पूछा- तो बताओ मैं क्या करूँ… जो तुम बताओगी वही मैं करूँगा।
मैंने पंकज से अपने ऊपर नंगे लेट कर पहले मेरा सारा नंगा बदन चूमने और चाटने के लिए कहा। पंकज झट से मेरे ऊपर चढ़ कर मेरी नंगे बदन को सर से पैर तक चूमने लगा। पहले उसने मेरे होंठों को खूब चूमा, फिर मेरी चूचियों को खूब चूसा। उसके बाद मेरे पैर से लेकर मेरी जगहों तक मेरे बदन को खूब चूमा और चाटा। पंकज ने मेरे पेट को, मेरी नाभि को, मेरी चूत के ऊपर के उभरे हुए त्रिकोण को जी भर के चाटते हुए मेरी सब जगहों और मेरे पैरों को खूब चाटा।
मुझे पंकज के इस तरह से चूमना और चाटना बहुत अच्छा लग रहा था और पंकज भी बहुत मन लगा कर के मेरा सारा बदन चूम रहा था और चाट रहा था।
इतनी चुम्मा-चाटी के बाद भी अभी तक पंकज ने मेरी चूत के अन्दर अपनी जीभ नहीं घुसेड़ी थी।
अब मेरी चूत के अन्दर चीटियाँ रेंगना चालू हो गईं।
फिर उसके बाद मैं पेट के बल लेट गई और पंकज से फिर अपने सारे बदन को पीछे से चाटने को कहा। पंकज फिर मेरी गर्दन को, मेरी पीठ को और मेरे पैरों को चाटने लगा। अब मैंने पंकज से मेरे चूतड़ों को चाटने को कहा।
पंकज ने जी भर के मेरे चूतड़ों को अपने हाथ से फैला कर, उनके अन्दर अपनी जीभ डाल कर खूब चूमा और चाटा।
फिर मैंने पंकज को मेरी पीछे से चूत के आस-पास चूमने को कहा, मैंने पंकज को अपनी जीभ से मेरी चूत को धीरे-धीरे चाटने को कहा।
पंकज बड़े आराम से मेरी चूत चाटने लगा।
थोड़ी देर चूत चटवाने के बाद मेरी चूत पानी छोड़ दिया और मैंने पंकज को अपनी बाँहों में जकड़ लिया।
इसके बाद मैंने पंकज को मेरे ऊपर चढ़ा कर अपना लंड मेरे मुँह के अन्दर डालने को कहा।
पंकज ने अपना लंड मेरे मुँह में घुसेड़ दिया और मैं पंकज का लौड़ा बड़े आराम से अपने हाथों से पकड़ कर चूसने लगी।
मैं जैसे-जैसे पंकज का लंड चाट और चूस रही थी, वैसे-वैसे उसके लंड ने अकड़ना शुरू कर दिया।
पंकज अपने हाथों से मेरी चूचियों को ज़ोर-ज़ोर से मसलने लगा।
थोड़ी देर में ही मेरे चूसने से पंकज का लंड तन्ना कर खड़ा हो गया..!
जब पंकज का लंड पूरा का पूरा तन गया तो उसने मुझसे बोला- अरे मेरी लंड की रानी, अब तो छोड़ दो मेरे लंड को… मुझे अब तुम्हारी चूत में अपना लंड पेलना और तुम्हें चोदना है… देखो ना मेरा लंड अकड़ कैसे खड़ा हो गया है.. यह अब तुम्हारी चूत में घुसना चाहता है… चलो अब चूत चुदवाने के लिए तैयार हो जाओ।
पंकज का बात सुन कर मैं पंकज का लण्ड अपने मुँह से निकाल कर पंकज से बोली- हाय मेरी चूत के राजा, जैसे तुम्हारा लौड़ा तन कर खड़ा हुआ है, वैसे ही मेरी चूत भी लंड खाने के लिए अपनी लार छोड़ रही है। मेरी चूत बहुत गीली हो गई है, अब मैं भी तुमसे अपनी चूत चुदवाना चाहती हूँ। चलो अब जल्दी से अपना यह मोटा सा डंडा मेरी चूत में घुसेड़ो और चूत को चोद-चोद कर फाड़ दो।
पंकज मेरी बातों को सुन कर मेरे ऊपर से नीचे उतर गया और मेरी टाँगों के बीच बैठ गया। टाँगों के बीच बैठने के बाद पंकज ने मेरी टाँगों को अपने हाथों से खोल कर मेरी चूत को खोला और अपना लंड मेरी चूत के दरवाजे पर रख कर एक धक्के से पूरा का पूरा लंड चूत के अन्दर घुसेड़ दिया।
मैंने भी अपनी टाँगों को जितना हो सका, खोल कर पंकज का लंड अपनी चूत में ले लिया, लेकिन पंकज के धक्के के साथ साथ मेरे मुँह से एक हल्की सी चीख निकल गई।
पंकज ने मेरी चीख सुन कर के पूछा- क्या हुआ, विभा तुम्हारी चुदी-चुदाई चूत क्या फिर से फट गई? अरे अभी तो सिर्फ़ लंड चूत के अन्दर डाला है, अभी तो पूरी चुदाई बाकी है और तुम अभी से चीख रही हो?
मैं पंकज की बातों को सुन कर बोली- साले हरामी चूत के पिस्सू, ऐसे धक्का मारा जाता है? चुदक्कड़ बीवी के चोदू खसम, अबे यह तेरी बीवी की चूत नहीं है, कि जैसे मर्ज़ी चोद रहा है… साले आराम-आराम से चोद..!
फिर मैंने पंकज से प्यार से बोली- पंकज, ऐसे नहीं, धीरे-धीरे, अपने लंड को मेरी चूत से पूरा बाहर निकाले बिना, हल्के-हल्के धक्के मार कर, जी भर के सारी रात चोद कर मुझे मज़ा दो। ऐसे जल्दी-जल्दी से चोदने से क्या फायदा? तुम जल्दी झड़ जाओगे और मुझे भी मज़ा नहीं मिलेगा।
अब पंकज मुझे धीरे-धीरे चोदने लगा। थोड़ी देर तक धीरे-धीरे चोदने के बाद पंकज ने मेरी टाँगें पकड़ कर ऊपर फैला लीं और अपने लंड को मेरी चूत से पहले आधा निकालता फिर उसको मेरी चूत के अन्दर घुसेड़ देता।
मुझे इस धीमी चुदाई से बहुत मज़ा मिल रहा था। मैं पंकज की कमर को अपने पैरों से पकड़ कर उसको अपनी चूचियों से चिपका लिया और अपनी कमर उठा-उठा कर पंकज का लंड अपनी चूत में पिलवाने लगी।
पंकज की इस धीमी चुदाई से मेरी चूत अब तक तीन बार पानी छोड़ चुकी थी, लेकिन चूत और चुदना चाहती थी।
थोड़ी देर पंकज मुझे धीरे-धीरे चोदने के बाद मुझसे से बोला- मेरी रानी, अब बहुत हो गया है.. अब मुझे ज़ोर-ज़ोर से चोदने दो। वैसे ज़न्नत को मैं तो रोज़ ज़ोर-ज़ोर से चोदता हूँ और ज़न्नत भी चुदते-चुदते ज़ोर-ज़ोर से चोदने के लिए बोलती है। अब तुम अपनी चूत संभालो और मैं तेज़ी से चोदता हूँ।
इतना कहने के बाद पंकज ने मेरी दोनों चूचियों को अपने हाथों से कस कर पकड़ लिया और अपनी कमर तेज़ी से उठा-उठा कर मुझे चोदने लगा।
अब मैं भी बहुत गर्म हो गई थी और मैंने भी पंकज को अपने दोनों हाथों और दोनों पैरों से पकड़ कर उससे चिपक कर पंकज की चुदाई का मज़ा लेने लगी।
थोड़ी देर मेरी चूत में लंड तेज़ी से पेलने के बाद पंकज का लंड मेरी चूत के अन्दर ठुमका मारने लगा और मैं समझ गई कि अब पंकज झड़ने वाला है।
वैसे मैं भी अब झड़ने वाली थी।
मैंने पंकज का मुँह खींच कर अपने चूचियों पर सटाते हुए पंकज से बोली- पंकज, जल्दी से तुम मेरी चूची चूसते हुए मुझे चोदो, मैं भी अब झड़ने वाली हूँ। चूची चुसवाते हुए चुदने से मैं बहुत जल्दी झड़ूँगी।
पंकज झट से मेरी एक चूची को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा।
मैं भी अपनी चूतड़ उचका-उचका कर पंकज के लंड से चुदवाने लगी।
थोड़ी देर में पंकज ने लंड तेज़ी से मेरी चूत में अन्दर तक पेल कर पानी छोड़ दिया और मेरी चूत को अपने पानी से भर दिया।
मैंने भी उसी समय अपनी चूत का पानी पंकज के लंड के ऊपर छोड़ दिया।
हम लोग इस चुदाई से बहुत ही थक गए थे और बिना चूत से लंड निकाले एक-दूसरे को अपने से चिपका कर सो गए।
सुबह जब आँख खुली तो देखा कि पंकज मेरी बगल में नंग-धड़ंग सो रहा है और मैं भी बिल्कुल नंगी हूँ।
पहले तो मैं चौंक गई फिर बाद में बीती रात की सारी घटना याद आई और मैं एक बार के लिए शरमा गई।
फिर मैंने गौर से पंकज को देखा, सुबह होने पर भी उसका लंड फिर से खड़ा हो कर हवा में झूम रहा है। उस समय पंकज के लौड़े का सुपारा पूरी तरह से खुला हुआ था और बिल्कुल टमाटर की तरह लाल था।
मैं पंकज के लंड का ऐसा मस्त नज़ारा देख कर अपने आप को रोक नहीं पाई और बैठ कर उस लंड को अपने हाथों से पकड़ अपने मुँह से आगे लगा लिया।
मुँह से लगते ही पंकज का लंड और भी अकड़ गया।
मुझे पंकज के लंड से अपनी चूत की महक आ रही थी।
मैंने पंकज का लंड अपने मुँह में भर लिया और उसे चूसने लगी।
पंकज की आँख खुल गई और उसने अपने हाथों से मुझे जकड़ लिया और मुझे अपने ऊपर खींच कर मुझे बेतहाशा चूमने लगा।
थोड़ी देर चूमने के बाद पंकज ने मेरी नंगी चूचों से खेलने लगा और उन्हें चूसने लगा।
फिर पंकज ने मुझसे बोला- रानी, मुझे तुम्हारा नींद से जगाने का यह अंदाज़ बहुत पसंद आया। चलो अब हम तुम अब 69 की पोजीशन में एक-दूसरे के चूत और लंड चूसते हैं।
मैं झट बिस्तर पर फिर से लेट गई और पंकज उठ कर मेरे पैरों की तरफ अपना सर करके लेट गया। पहले पंकज मेरी चूत से थोड़ा खेला और फिर ऊपर चढ़ करके मेरी चूत चाटने लगा।
मैं भी पंकज का लंड अपने हाथों से पकड़ कर चूसने लगी।
थोड़ी देर तक मैं और पंकज एक-दूसरे का लंड और चूत चाटते और चूसते रहे। फिर वो मेरे ऊपर से उठ गया और मुझे अपने पेट के बल लेटने के लिए बोला।
मैंने फ़ौरन पंकज से पूछा- क्यों? सुबह सुबह अपने दोस्त की बीवी की गाण्ड मारने का इरादा है क्या?
पंकज तब अपने हाथों से मुझे उल्टी लिटाते हुए बोला- नहीं, अभी मैं तुमको कुतिया बना कर पीछे से चोदूँगा और तुम एक कुतिया की तरह अपनी गान्ड हिला-हिला कर मेरा लंड अपनी चूत में पीछे से पिलवाओगी।
मैं तब बिस्तर पर अपने चार हाथ और पैरों के सहारे कुतिया की तरह हो गई और पंकज झट से उठ कर मेरे पीछे बैठ गया और पीछे से मेरे चूतड़ों को चाटने लगा और थोड़ी देर के बाद मेरी चूत भी चाटना और चूसना शुरू कर दिया।
तब पंकज ने मुझसे बोला- क्यों मेरी चुदक्कड़ विभा रानी, तुम्हें अपनी गान्ड मरवाने की बहुत जल्दी पड़ी हुई है। अभी तो मैं तेरी चूत की चोद-चोद करके उसको चौड़ी करूँगा और फिर नाश्ता करने के बाद तेरी गान्ड में अपना लंड घुसेड़ कर तेरी गान्ड का छेद चौड़ा करूँगा।
पंकज की बातों को सुन कर मैं पंकज से बोली- मेरी चूत और गान्ड की बातों को छोड़, तुम अपनी बीवी की चूत और गान्ड की चिंता करो पंकज… मेरे महा चोदू पति ने अब तक तुम्हारी बीवी की चूत और गान्ड चोद-चोद कर उसके दोनों छेद चौड़े कर दिए होंगे। तुम्हें शायद नहीं मालूम कि नरेन को औरतों की गान्ड मारने का बहुत शौक है और अब तक वो अपने लंड कम से दो-तीन बार ज़न्नत की गान्ड में डाल चुका होगा।
पंकज मेरी बातों को सुन कर बोला- कोई बात नहीं, नरेन अगर ज़न्नत की चूत और गाण्ड की छेद चौड़े कर रहा है तो मैं भी तुम्हारी चूत और गाण्ड की छेद बड़े कर दूँगा।
फिर थोड़ी देर के बाद पंकज ने मेरे पीछे से मेरे ऊपर चढ़ गया और अपना लंड मेरी चूत से सटा कर एक हल्का सा धक्का मारा और उसका सुपारा मेरी चूत में समा गया।
मैंने भी अपने बिस्तर की चादर को पकड़ कर अपनी कमर को पीछे की तरफ धकेला और पंकज का पूरा लंड मेरी चूत में समा गया।
अब पंकज ने मेरी कमर को पकड़ कर अपना कमर चला करके मुझे चोदना शुरू कर दिया। इस आसन में पंकज का लौड़ा मेरी चूत की बहुत गहराई तक पहुँच रहा था और मुझे भी मज़ा मिल रहा था।
पंकज ने तब अपने दोनों हाथों को नीचे से बढ़ा कर मेरे दोनों रसीले पके आमों को, जो हवा में झूल रहे थे, पकड़ लिया और मसलने लगा।
थोड़ी देर तक मेरी चूचियों से खेलने के बाद पंकज मेरी चूत की घुंडी से खेलने लगा और इसी तरह से वो मुझे चोदता रहा। थोड़ी देर के बाद पंकज ने चूत में अपना लंड का पानी छोड़ दिया और मेरी चूत को भर दिया।
मैं भी पंकज के साथ-साथ झड़ गई और बिस्तर पर औंधे लेट कर सुस्ताने लगी। पंकज भी मेरी पीठ पर पड़ा-पड़ा सुसताने लगा।
थोड़ी देर सुसताने के बाद पंकज मेरे ऊपर से हट गया और मैं भी तब पलंग पर उठकर अपनी चूत को पहले चादर से पोंछा और फिर बाथरूम चली गई।
जब मैं बाथरूम से नहा-धो कर निकली तो देखा कि पंकज अपने लंड को पकड़ कर सहला रहा है और उसका लंड फिर से खड़ा हो गया है।
मैंने पंकज से पूछी- क्या बात है? तुम्हरा हथियार फिर से खड़ा हो गया है? अभी उसको अपने हाथ से ही ठंडा करो और मैं अभी चाय-नाश्ता बनाने जा रही हूँ।
पंकज मेरी तरह देखते हुए बोला- अरे रानी, तुम चीज़ ही ऐसी हो कि तुम्हारी याद आते ही यह पिस्टन तैयार हो जाता है तुम्हारे सिलेण्डर में जाने के लिये !
तुम्हारी चूत बिल्कुल मक्खन मलाई जैसी है, जी करता है उसको मैं हमेशा चूमूँ, चाटूं और चोदूँ।
ठीक है.. अभी तुम चाय-नाश्ता बनाओ और मैं भी बाथरूम जा रहा हूँ। लेकिन चाय-नाश्ते के बाद मैं तुम्हारी गाण्ड मारूँगा।
लोग कहते हैं किसी औरत की चुदाई तब तक पूरी नहीं होती, जब तक उसकी गाण्ड में लंड ना पेला जाए। इसलिए मैं अभी नाश्ता करने के बाद तुम्हारी गण्डिया में अपना लाण्डिया पेलूँगा।

इतना कह कर पंकज बाथरूम चला गया और मैं नाश्ता बनाने रसोई में चली आई। रसोई में सबसे पहले नाश्ता बनाया और चाय बनाई।
जब तक मैं चाय-नाश्ता बना रही थी कि पंकज बाथरूम से नहा-धो कर बिल्कुल नंगा ही निकल आया और मुझसे कहने लगा- विभा, चलो अब तुम भी नंगी हो जाओ..! हम लोग नंगे ही बिस्तर पर बैठ कर चाय-नाश्ता करेंगे।
पंकज की बात सुन कर मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और नंगी ही रसोई में जाकर चाय-नाश्ता लेकर के बिस्तर पर बैठ गई।
पंकज मेरे साथ-साथ मेरे बगल में बैठ गया और उसका मेरे बगल में बैठ कर मेरी चूचियों से खेलना चालू हो गया।
मैंने उसके हाथों को हटाते हुए उसको चाय-नाश्ता दिया और जल्दी से चाय-नाश्ता खत्म करने के लिए बोला।
पंकज ने मुझसे पूछा- क्यों जल्दी क्यों? क्या तुम्हें अपनी गाण्ड में मेरा लंड पिलवाने की बहुत जल्दी है क्या?
मैंने उसको कहा- नहीं, मुझे जल्दी है क्योंकि अभी एक घंटे में कामवाली आ जाएगी। एक घंटे में चाय-नाश्ता खत्म करना है। हम लोगों को फिर से कपड़े पहनने हैं… समझे मेरे चोदू राजा?
पंकज मेरी बातों को सुन कर चुपचाप नाश्ता करने लगा।
फिर हम लोगों ने चाय पी और फिर सारे बर्तन रसोई में रख कर वापस पंकज के पास बेडरूम में गई।
पंकज मुझसे बोला- विभा, मैं तो सोच रहा था कि मैं अभी तुम्हारी गाण्ड मारूँगा, लेकिन अभी तुम्हारी कामवाली बाई आने वाली है। चलो पहले हम लोग कपड़े पहन लेते हैं और अगर वक्त मिला हुआ तो कुछ करते हैं।
मैंने पंकज से पूछा- कुछ का मतलब? अभी कल रात से हम लोग चुदाई कर रहे हैं.. अब और क्या बचा है करने के लिए?
पंकज तब मेरी चूचियों को पकड़ कर धीरे-धीरे दबाते हुए बोला- अरे मेरी जान, अभी तुम्हारी चूत से और गाण्ड से मेरे लंड की दोस्ती बढ़ानी है। तभी तो बाद में मतलब और किसी दिन जब मौका मिलेगा। तुम्हें और रगड़ कर चोदना है। अच्छा चलो अपने कपड़े पहन लो और फिर बिस्तर पर अपनी साड़ी उठा कर लेट जाओ, मुझे तुम्हारी चूत का रस पीना है।
मैं पंकज की बात सुन जल्दी से अपने साड़ी, पेटीकोट, ब्रा और ब्लाउज पहन लिया और फिर वापस बिस्तर पर अपने कपड़े उठा कर लेट गई।
पंकज भी अब तक अपने कपड़े पहन चुका था।
वो मेरे पास आया और मेरी चूत को चूमने लगा। थोड़ी चूत को चूमने के बाद पंकज अपनी जीभ मेरी चूत पर फेरने लगा और फिर जीभ को मेरी चूत में डाल दिया।
पंकज अब जीभ से मेरी चूत बुरी तरह से चाटने और चूसने लगा। मेरी चूत भी तेज़ी से पानी छोड़ने लगी और पंकज भी तेज़ी से मेरी चाट-चाट कर चूत का पीने लगा।
चूत की चुसाई से मैं इतना गर्म हो गई कि मैं अपने आप अपनी दोनों टाँगों को घुटने से पकड़ लिया और अपनी कमर उचका कर अपनी चूत पंकज के मुँह से रगड़ने लगी। पंकज भी अपने दोनों हाथों से मेरी दोनों चूचियों को ब्लाउज के ऊपर से पकड़ कर रगड़ने लगा।
इतने में दरवाजे की घन्टी बजी और मैं और पंकज जल्दी से एक-दूसरे को छोड़ कर अपने कपड़े ठीक किए और मैं बाहर का दरवाजा खोलने चली गई। बाहर काम-वाली बाई आई हुई थी। काम-वाली अन्दर आई और अपने काम पर लग गई। थोड़ी देर में काम-वाली अपना काम खत्म करके चली गई और जाते-जाते पंकज पर अपनी गहरी नज़रों से देखती रही।
काम-वाली बाई के जाते ही पंकज ने मुझे पकड़ लिया और एक झटके के साथ मेरे सब कपड़े फिर से उतार दिए और मुझको अपने साथ बेडरूम में लाकर बिस्तर पर लिटा दिया। फिर पंकज भी जल्दी से अपने कपड़े उतार कर मेरे बगल में लेट गया।
लेटने के बाद पंकज ने एक हाथ से मेरी चूची और दूसरे हाथ से मेरी चूत को सहलाने लगा। थोड़ी देर के बाद पंकज ने मुझे उल्टा लिटा दिया और मेरे चूतड़ों पर अपना मुँह रगड़ने लगा।
फिर वो बिस्तर पर से उठ कर ड्रेसिंग टेबल से कोल्ड-क्रीम की बॉटल ले आया और क्रीम मेरी गाण्ड के छेद में मलने लगा।
अब तक मैं चुप थी मगर अब मैंने पूछ ही लिया- क्या कर रहे हो? क्या इरादा है? क्यों मेरी कोल्ड कीम खराब कर रहे हो। क्रीम मुँह में लगाई जाती है और तुम क्रीम मेरी गाण्ड में लगा रहे हो?
पंकज मेरी गाण्ड में क्रीम लगते हुए बोला- मेरी चुदक्कड़ रानी, अब मैं तुम्हारी गाण्ड में अपना लंड पेलूँगा और अभी उसी की तैयारी कर रहा हूँ। क्रीम लगाने से तुम्हारी गाण्ड नहीं छिलेगी।
तब अपने हाथों से अपने चूतड़ों को फैलाते हुए मैं पंकज से बोली- पंकज मेरे चोदू राजा, मुझे गाण्ड मरवाने की आदत है, क्योंकि नरेन अक्सर मेरी गाण्ड में अपना लंड पेलता है और चोदता है, इसलिए तुम्हारे लंड घुसने से मेरी गाण्ड अब नहीं फटेगी। लो अब मैंने अपनी गाण्ड खोल दी है और अब तुम अपना लंड डालो, और मेरी गाण्ड मारो।
मेरी बातों को सुन कर पंकज हंस पड़ा और बोला- विभा, मैं तो तुम्हें एक चुदक्कड़ औरत समझ रहा था लेकिन तू तो गाण्डू भी हो। चलो अब मैं तुम्हारी गाण्ड मारता हूँ।
इतना कहकर पंकज ने अपना लंड मेरी गाण्ड में एक झटके से ठूँस दिया और मेरी गाण्ड चोदने लगा।
मैं भी अपनी कमर को झटके के साथ आगे-पीछे करके पंकज का लंड अपने गाण्ड में मज़े से पिलवाने लगी।
थोड़ी देर में पंकज मेरी गाण्ड के अन्दर झड़ गया और अपना लंड मेरी गाण्ड से निकाल कर बाथरूम में चला गया। मैं भी बिस्तर के चादर से अपनी गाण्ड को पौंछ कर रसोई में चली गई।
रसोई में मैंने खाना बनाया और जब बाहर निकली तो देखा कि पंकज नहाने के बाद नंगा ही जाकर बिस्तर पर सो गया है और उसका सोया हुआ लण्ड दोनों पैरों के बीच सुस्त पड़ा हुआ है।
एक बार तो मैं पंकज का लण्ड देख कर मचल गई लेकिन मैंने अपने आप को रोक लिया क्योंकि कल रात से पंकज बहुत ज़्यादा मेहनत कर चुका है और मेरी चूत और गाण्ड भी चुदते-चुदते चसक रही थी।
मैं पंकज को छोड़ कर अपने कमरे गई और थोड़ी देर में नहा धोकर रसोई में जाकर अपने और पंकज के लिए खाना लगाया और तब जाकर मैंने पंकज को जगाया।
पंकज उठ कर खाना खाने के बाद फिर मुझे बिस्तर पर ले कर मुझसे लिपट कर सो गया और मैं भी पंकज की बाँहों में सो गई।
रात में एक बार मैं पेशाब करने के लिए उठी तो देखा कि पंकज मेरे बगल में नंगा लेटा हुआ है और उसका एक हाथ मेरी चूची पर है।
मैंने धीरे से पंकज का हाथ अपनी चूची पर से हटाया और नंगी ही बाथरूम चली गई। बाथरूम से जब आई तो देखा कि पंकज की आँख भी खुली हुई है और वो अपने हाथों से अपना लण्ड मसल रहा है।
जैसे ही मैं पंकज के बगल फिर से लेटी तो पंकज ने मुझे फिर से अपने बाँहों में जकड़ लिया और हम लोग एक बार फिर से ज़ोरदार चुदाई कर के सो गए।
सुबह ज़न्नत का फ़ोन आया कि पंकज और मैं लंच पर उसके घर नरेन और ज़न्नत से मिलें।
मैं और पंकज मेरे घर गए, वहाँ पर ज़न्नत ने बड़ा अच्छा खाना बना कर रखा हुआ था। हम सबने पहले थोड़ी ड्रिंक्स ली और फिर आराम से खाना खाया। खाने के बाद सब मेरे ड्राइंग रूम में आए और अपने-अपने कपड़े निकाल दिए, मैं पंकज की गोद में और ज़न्नत नरेन की गोद में बैठ गई।
नरेन और पंकज फिर हम दोनों के नंगे शरीर से खेलने लगे।
हम सब के हाथों में अपनी अपनी ड्रिंक्स थी। तब पंकज ने नरेन से पूछा- नरेन, तुम्हें ज़न्नत के साथ अकेले कैसा लगा?
नरेन ने कहा- ज़न्नत को अकेले चोदने तो मज़ा आ गया पंकज, पर जानते हो कि कल जिस चीज़ ने मुझे सबसे ज़्यादा उत्तेजित किया वो था अपनी आँखों के सामने विभा को तुम से चुदवाते हुए देखना। वाकयी तुम्हारे लंबे लण्ड को विभा की चूत में बार-बार अन्दर-बाहर जाते हुए देख कर मज़ा आ गया।
पंकज बोला- मुझे भी कल रात विभा को अकेले चोदने में बड़ा मज़ा आया, पर नरेन, सच कहो तो मुझे भी तुम को अपने सामने ज़न्नत को चोदते देख कर और साथ-साथ विभा को तुम्हारे और ज़न्नत के सामने उसी बिस्तर पर चोद कर जो मज़ा आया वह मैं बता नहीं सकता।
बाद में नरेन ने बताया कि उसने भी ज़न्नत को घर ले जा कर रात भर उसको पूरा मज़ा दिया। ज़न्नत को अपने घर ले जाने के बाद नरेन नंगे होकर बिस्तर पर लेट गया।
फिर उसने ज़न्नत से उसे जी भर के मज़ा देने को कहा। ज़न्नत भी नंगे हो कर बिस्तर पर आई और नरेन के लण्ड अपने हाथ में लेकर चूसने लगी।
फिर नरेन ने ज़न्नत को अपने ऊपर उल्टा लेट कर अपनी चूत को नरेन के मुँह के ऊपर रखने को कहा।
ज़न्नत नरेन के ऊपर उल्टा लेट गई, नरेन ज़न्नत की चूत को और ज़न्नत नरेन के लण्ड को चूसने लगी।
नरेन की आँखों के सामने ज़न्नत के गोरे-गोरे चूतड़ नज़र आ रहे थे और नरेन को ज़न्नत की चूत और गुलाबी गाण्ड साफ दिखाई दे रही थी।
नरेन ज़न्नत के दोनों चूतड़ों को अपने दोनों हाथों से पकड़ कर सहलाने लगा और अपनी जीभ से ज़न्नत की चूत चाटने लगा।
चूत चाटते-चाटते नरेन की ज़बान ज़न्नत की गाण्ड पर चली गई और नरेन ज़न्नत की गुलाबी गाण्ड को अपनी जीभ से चाटने लगा। फिर उसके बाद नरेन अपनी जीभ को बारी-बारी से ज़न्नत की चूत और गाण्ड के अन्दर-बाहर करके ज़न्नत की चूत और गाण्ड दोनों को अपनी जीभ से चोदने लगा।
इधर ज़न्नत नरेन का लण्ड बड़े आराम से चूस रही थी और थोड़ी देर में ही नरेन का लण्ड तन्ना कर खड़ा हो गया। ज़न्नत भी नरेन की जीभ से अपनी चूत और गाण्ड दोनों को चुदवा कर अब नरेन के लण्ड से चुदाई करवाने के लिए उत्तेजित हो चुकी थी।
तब ज़न्नत ने नरेन को अपने ऊपर लेकर उसके लण्ड को अपनी चूत में डाल कर ऊपर से चोदने को कहा।
लेकिन नरेन ने कहा- तुम मेरे ऊपर आ जाओ।
तो ज़न्नत नरेन के ऊपर चढ़ गई और उसके लण्ड को अपनी चूत में डाल कर धीरे-धीरे धक्के लगा कर चोदने लगी। थोड़ी देर इस तरह से ज़न्नत ने नरेन को ऊपर से चोदा।
फिर नरेन ने कहा- ज़न्नत, मुझे तुम्हारे चूतड़ बहुत अच्छे लगते हैं और अगर तुम्हें सचमुच मुझे मज़ा देना चाहती हो तो आज मैं तुम्हारी गाण्ड मार कर मज़ा लेना चाहता हूँ।
ज़न्नत बोली- नरेन, आज तुम जो चाहो वो मज़ा मेरे साथ ले सकते हो। मैंने पंकज से एक-दो बार गाण्ड मरवाई है पर तुम्हारा लण्ड तो बहुत मोटा है अन्दर कैसे जाएगा?
नरेन ने कहा- रानी, इसकी चिंता मुझ पर छोड़ दो… पहले मैं तुम्हारी गाण्ड को अपनी जीभ से चाट कर गीली कर दूँगा, फिर अपना लण्ड उसमें घुसेड़ कर आराम से मैं तुम्हारी गाण्ड मारूँगा।
ज़न्नत ने कहा- ठीक है..
और वो बिस्तर पर घोड़ी की तरह अपनी गाण्ड ऊपर करके लेट गई, नरेन ने ज़न्नत की गाण्ड खोल कर अपनी जीभ ज़न्नत की गाण्ड के छेद पर लगा कर उसको चाटने लगा।
थोड़ी देर ज़न्नत की गाण्ड को चाट कर नरेन ने उसे खूब गीली कर दिया और फिर ज़न्नत से अपने लण्ड को एक बार और चूस कर गीला करने को कहा। ज़न्नत ने नरेन के लण्ड को थोड़ा चाट कर और अपना थूक लगा कर खूब गीला कर दिया पर नरेन ज़न्नत की गाण्ड मारने से पहले थोड़ी देर उसकी चूत चोदना चाहता था।
नरेन ने अपने लण्ड को ज़न्नत की चूत में लगा कर एक ही धक्के में पूरा लण्ड उसकी चूत के अन्दर घुसा दिया। ऐसे थोड़ी देर तक नरेन ने ज़न्नत की चूत को चोदा। चूत में जाने से नरेन का लण्ड और भी गीला हो गया।
फिर नरेन ने अपने लण्ड को पकड़ कर ज़न्नत की गाण्ड के छेद पर लगाया और थोड़े ही दबाव से में आधा लण्ड अन्दर घुसेड़ दिया।
नरेन ने एक धक्का और दिया और बड़े आराम से नरेन का लण्ड ज़न्नत की गाण्ड में पूरा चला गया।
नरेन का लण्ड मोटा ज़रूर था, पर ज़न्नत की गाण्ड भी खूब गीली हो चुकी थी और ज़न्नत को अपनी गाण्ड में नरेन का पूरा लण्ड लेने में कोई परेशानी नहीं हुई।
फिर नरेन ने ज़न्नत के दोनों चूतड़ों को अपने दोनों हाथों से पकड़ लिया और उसकी गाण्ड में अपना लण्ड धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करके चोदने लगा।
इस तरह से नरेन ने ज़न्नत की गाण्ड को जी भर के मारा और फिर उसके गोरे-गोरे चूतड़ों पर अपना पानी निकाल दिया।
ज़न्नत पूरी तरह से नरेन की चुदाई से खुश होकर बिस्तर पर पीठ के बल लेट गई, नरेन ने अपने पानी को तौलिए से पौंछ कर ज़न्नत के चूतड़ों को साफ किया और फिर ज़न्नत के ऊपर ही नंगा लेट कर उसको अपनी बाँहों में ले कर सो गया।
नरेन ने कहा- पंकज, हमारी पहली बीवियों की अदला-बदली चुदाई बड़ी जल्दबाजी में हुई थी, अगर तुम बुरा ना मानो तो मैं एक बार फिर तुम्हें विभा को चोदते हुए देखना चाहता हूँ।
पंकज बोला- मैं भी ज़न्नत को एक बार फिर तुमसे चुदवाते हुए देखना चाहता हूँ।
इन बातों से दोनों के लंड दोबारा तन्ना गए।
नरेन ने बेडरूम में चलने की सलाह दी और कहा- वहीं पर हम एक-दूसरे की बीवियों को चोदेंगे।
हम अपनी ड्रिंक लेकर बेडरूम में आ गए और उसी बिस्तर पर नंगे ही बैठ कर चुस्कियाँ लेने लगे। कमरे में रोशनी भरपूर थी। नरेन ने पंकज से पहले मुझे चोदने को कहा। मैंने नरेन से मुझे चुदाई के लिए तैयार करने के लिए मेरी चूत चाटने को कहा।
नरेन ने फ़ौरन मेरी इच्छा का सम्मान किया और मेरी चूत बड़े प्यार से चाटने लगा।
साथ ही ज़न्नत भी पंकज को उसका लंड चूस कर उसे भी तैयार करने लगी।
मैं बिस्तर पर अपने दोनों जाँघें फैलाकर लेट गई, मेरी सपाट चिकनी खुली चूत पंकज के लंबे लौड़े का आघात सहने को अब पनिया चुकी थी।
पंकज मेरे ऊपर आ गया और अपने लंड को मेरी चूत के मुँह पर लगा दिया।
तब मैंने ज़न्नत से कहा, “अगर वो बुरा ना माने तो क्या वो अपने हाथों से पंकज के लंड को मेरी चूत में डाल सकती है।”
ज़न्नत सहर्ष तैयार हो गई और अपने पति के लौड़े को अपने हाथ में लेकर मेरी चूत में डाल दिया, पंकज ने मुझे चोदना शुरू कर दिया।ज़न्नत और मेरे पति हमारे पास ही बैठ कर पंकज के लंबे लंड को मेरी चूत की सैर करने के दृश्य का आनन्द उठाने लगे।
उन दोनों ने मेरे हाथ थाम लिए और मेरे पूरे शरीर और मेरी चूचियों को सहलाने लगे। मैं अपने हाथों से ज़न्नत की चूचियों और नरेन के लंड को भी सहलाने लगी।
पंकज इस सबसे जैसे बेख़बर होकर बेरोकटोक मेरी चूत की चुदाई में लगा रहा। पंकज मुझे लगभग 25-30 मिनट तक ज़ोर-ज़ोर से चोदता रहा और मेरे पेट पर अपना पानी निकाल दिया। ज़न्नत ने उसका रस अपनी साड़ी से पौंछ दिया।
मेरे पति ने मुझे एक प्यारी मुस्कान के साथ मेरी चूत को एक प्यार भरी चुम्मी दी।
मैंने भी उसका लंड दबा कर उसके होंठों पर चुम्मी देकर बड़े प्यार से उसको धन्यवाद किया।
अब ज़न्नत की बारी थी। वो बिस्तर पर लेट गई। पंकज ने उसकी चूत चाट कर उसे तैयार किया और मैंने नरेन का लंड चूस कर उसे ज़न्नत को चोदने के लिए तैयार किया।

ज़न्नत ने भी मुझसे अपने पति का लंड उसकी चूत में डालने की फरमाइश की, जो मैंने खुशी से पूरी कर दी।
मेरे पति ने हमारे सामने ज़न्नत की चुदाई शुरू कर दी। पंकज और मैं उन दोनों के पास ही बैठ गए और उनके खेल का आनन्द उठाने लगे।
पंकज और मैंने ज़न्नत के हाथ थाम लिए और उसके जिस्म, सिर, चूचियों और पेट को प्यार से सहलाने लगे। ज़न्नत भी मेरी चूचियों और पंकज के लंड से खेलने लगी और नरेन बेधड़क उसकी चुदाई किए जा रहा था। वाह, क्या सीन था…!
नरेन की ज़न्नत के साथ 15-20 मिनट की घनघोर चुदाई के बाद पंकज बोला- नरेन, अब मैं तुम्हें ज़न्नत की गाण्ड मारते हुए देखना चाहता हूँ।
नरेन ने कहा- ठीक है..!
और ज़न्नत से घोड़ी वाले आसान में बिस्तर पर लेट जाने को कहा। ज़न्नत उकडूँ होकर बिस्तर पर लेट गई और पंकज ने अपने दोनों हाथों से उसके दोनों चूतड़ों को फैला कर नरेन के सामने ज़न्नत की गाण्ड खोल दी।
फिर मैंने नरेन के लंड को अपने हाथ में पकड़ कर ज़न्नत की गाण्ड के छेद में लगा दिया। नरेन धीरे धीरे अपना लौड़ा ज़न्नत की गाण्ड में घुसाने लगा, फ़िर जब पूरा लौड़ा अन्दर घुस गया तो जल्दी-जल्दी अन्दर-बाहर करके चोदने लगा।
ज़न्नत को भी नरेन से अपनी गाण्ड मरवा कर बड़ा मज़ा आ रहा था।
इस तरह से नरेन ने मेरे और पंकज के सामने 15-20 मिनट तक खूब ज़ोर-ज़ोर से ज़न्नत की गाण्ड को चोदा और फिर अपना रस ज़न्नत के गोरे-गोरे बड़े-बड़े चूतड़ों पर बरसा दिया। फिर मैंने अपनी साड़ी से पौंछ कर ज़न्नत के चूतड़ों को साफ कर दिया।
इस तरह से दोनों जोड़ो ने एक-दूसरे के जीवन-साथी के जिस्म का खुल कर खूब आनन्द लिया।
अपने अपने जीवन साथी को एक-दूसरे के जीवन साथी के साथ आमने-सामने बहुत पास से चुदवाते हुए देखने का आनन्द उठाया। उस दिन हम चारों को बीवियों को अदल-बदल कर चुदाई में खूब मज़ा आया।
उसके बाद हम लोगों ने फिर थोड़ा विश्राम किया, कुछ खाया-पिया, कुछ देर ऐसे ही छुट-पुट बातें कीं। बाद में हमने ये निर्णय किया कि रात में पंकज और नरेन दोनों एक साथ ज़न्नत को और फिर दोनों मुझे एक साथ चोदेंगे।
ज़न्नत और मैंने मिल कर नरेन और पंकज को उनके लंड चूस कर अपने दोनों के लिए तैयार किया। उसके बाद नरेन और पंकज ने मिल कर ज़न्नत और फिर मुझे बारी-बारी से चोदा।
उन्होंने पहले मुझे चोदा, तो ज़न्नत उसी बिस्तर पर बैठकर मुझे चुदते देखती रही। पंकज ने मुझे घोड़ी वाले आसन में चोदा, तब मैं नरेन का लंड चूसती रही।
फिर मेरे देखते-देखते उन दोनों ने ज़न्नत की चुदाई की, नरेन ने उसे चोदा और ज़न्नत ने अपने पति का लंड चूसा।
उसके बाद तो उन दोनों ने मुझे और ज़न्नत को एक साथ बिस्तर पर लेट जाने को कहा और फिर वहाँ दोनों हम दोनों को बारी-बारी से चोदने लगे।
पहले पंकज मुझे थोड़ी देर चोदता, फिर जाकर ज़न्नत को थोड़ी देर चोदता।
इसी तरह नरेन ने पहले ज़न्नत को थोड़ी देर चोदा, फिर आकर मुझको को थोड़ी देर चोदा और फिर एक के बाद एक पंकज और नरेन अदल-बदल कर मुझे और ज़न्नत को एक साथ सारी रात चोदते रहे जब तक कि नरेन ज़न्नत के मखमली चिकने चूतड़ों पर और पंकज मेरी नाभि के ऊपर ना झड़ गया।
उसके बाद हम सबने अपनी पहली चौतरफ़ा चुदाई की ही बातें कीं। हम सब को जिस बात ने सबसे ज़्यादा रोमांचित किया था वो ये नहीं था कि हमने किसी और को चोदा था, बल्कि एक ही बिस्तर पर चार-चार लोगों ने मिल कर एक साथ चुदाई लीला की..
अपने जीवन साथी को अपनी आँखों के सामने दूसरे को चोदते हुए देखने का भी एक अजीब रोमांच है जब कि खुद भी दूसरे के जीवन साथी के साथ उसी बिस्तर पर अपने जीवन साथी के सामने ही चुदाई कर रहे हों।
अपने इस पहले अनुभव के पूर्व मुझे अहसास नहीं था कि मैं नरेन को किसी अन्य स्त्री को चोदते देख कर कैसा महसूस करूँगी और मैं अपने आप को किस तरह से इस बात के लिए तैयार करूँगी कि मैं नरेन के सामने किसी और आदमी से चुदवा सकूँ।
पहले तो मैं यही सोचती थी कि नरेन मुझे दूसरे मर्दों से इसलिए चुदवाने दे रहा था ताकि वो उनकी बीवियों को उन्मुक्त हो कर चोद सके।
धीरे-धीरे मैंने यह पाया दूसरे जोड़ों के साथ बीवी अदल-बदल कर चुदाई करने में वाकयी बड़ा आनन्द आता है।
अब ना कि केवल मुझे नए आदमियों से चुदवाने में बड़ा आनन्द आने लगा, बल्कि नरेन को दूसरी स्त्री को चोदते देख कर भी मुझे बड़ा मज़ा आने लगा।
जब मेरा पति नरेन किसी औरत को बेरोक-टोक 20-30 मिनट तक लंबे करारे धक्के मार कर अपने मोटे लंड से ज़ोर-ज़ोर से चोदता है तो मुझे उस औरत के चेहरे पर चुदाई का आनन्द और वासना की संतुष्टि के सुंदर भाव देखने में बहुत मज़ा आता है।
नरेन भी इन औरतों को चोदने के साथ-साथ मुझे अपने सामने दूसरे आदमियों से चुदवाते हुए देख कर बहुत उत्तेजित होता है।
हालाँकि पहले मैं काफ़ी संकोच करती थी, पर अब मुझे लगता है कि अगर जीवन में चुदाई का भरपूर मज़ा लेना हो तो सामूहिक चुदाई के अलावा और कोई ऐसा तरीका नहीं है जिसमें कि पत्नी को गैर-मर्दों से चुदवाने का मज़ा लेने के लिए अपने पति से कुछ छिपाना नहीं पड़ता है और उनका पति भी बिना अपनी पत्नी से कुछ छिपाए दूसरी औरतों को अपनी पत्नी के सामने बड़े आराम से चोद सकता है।
ना किसी से कोई गिला, ना शिकवा, ना चोरी, ना बेईमानी, सिर्फ़ असली चुदाई का मज़ा, साथ-साथ एक-दूसरे के आमने-सामने चुदाई के आनन्द के दरिया में गोते लगाते का सुख लेते हैं।

इस अन्तर्वासना कहानी को शेयर करें :

Online porn video at mobile phone


antar wasna storiesantrabasana.comantarvasna2014देसी कहानीindian actress sex storydidi ki chudai hindi kahanimosi sex kahanibhai ka mut piyajija sali ki chudai ki kahani hindi maibete se chudipure parivar ki chudaiantarvadsna story hindihindi wife swapping storiesmosi sex storydidi ki chudai hindi storyswimming pool me chudaimaa bete ki chudai ki khaniyaantarvasna story listmaa ko chodaantarvasnastoriesindian antervasnachut ka majahindi desi bhabhi sex storydesi chut ki chudai ki kahanibadi didi ki chudai kahaninew antarvasana comantarvasna bhojpurisex story of teacher in hindiantarvasna.conमाँ को चोदाpapa ke dosto ne chodawww.mantarvashna.comantarvadna.combua ki beti ki chudaimummy ki antarvasnadesi bhabhi chudai kahanihindi gangbang storiessacchi chudai kahanibete se chudwayarandi pariwaranataravasanamaa ki gand chatiwife swapping story in hindiantarvasna jabardastiantarvasna doctorwww antervasna in hindi comlund ka swadantarvasna ki storybiwi ko randi banayawww antravasna hindi story combehan ko choda storymeri thukaibadi bahan ki chodaiantervasna hindi.comjabardasti sex kahaniantarvasna.conantarvasna story newmaa ko choda antarvasnamausi ki chudai storymaa ko khoob chodakamasutra sex kahanimaa ko biwi banayaantarvasana story.comsex kahani maa betaगुजराती सेक्स स्टोरीbhabhi desi sex storyhindi antarvasna kahanimaa bete ki antarvasnabehan ki gaanddidi ki chut fadiaunty ki chudai antarvasnawww.antarvasnan.com hindiwww antarvasna hindi kahani