गोदाम के अन्दर एक लडकी की चुदाई


kamukta, antarvasna हेल्लो दोस्तो | आज मैं आपको अपनी साडी की दुकान पर आने वाली एक लड़की को कैसे चोदा उस दिन सुनाने जा रहा हूँ | मेरी एक साडी की दुकान है | मैं साडी बेचकर अपनी जीविका चलाया करता हूँ | मेरे पास एक साडी का गोदाम है जहा पर कई साड़िया रखी रहती है | जब भी कोई ग्राहक साडी देखने के लिए आता है तो मैं पहले उसे नयी आई हुई और बेहतरीन साडी दिखाया करता हूँ | लेकिन अगर उन्हे किसी अलग रंग की साडी की तलाश रहती है तब मैं उनके लिए गोदाम से साडी बाहर लाया करता था | एक दिन एक लड़की मेरे साडी वाली दुकान पर आ गई थी | उस लड़की के सामने मैंने नए साडी को रख दिया | लेकिन उस लड़की को उसके रंग की साडी नही मिल रही थी | तब उस लड़की के लिए मैं गोदाम चला गया और फिर मैंने अपने गोदाम से साडी लेकर आया | वो लड़की मेरी दुकान के बाहर बैठी हुई थी | गोदाम से साडी लाने के बाद भी उस लड़की को उसके रंग की साडी नही मिल पाई तब मैंने उस लड़की को गोदाम पर चलने के लिए कहा | वो लड़की मेरे गोदाम के अन्दर पहुच गयी और मैंने उस लड़की से कहा की आप साडी तलाश कर लो |

वो लड़की उस दिन छोटे कपडे पहन कर आई थी | इसलिए जब वो गोदाम में थी तो गोदाम के अन्दर कोई नही था | जब गोदाम में कोई नही था तब मेरे पास मौका था की मैं उस लड़की को अपनी बाहो में ले सकू | वो लड़की टी शर्ट पहनी हुई थी | टी शर्ट पहनी हुई थी इसलिए उस लड़की के दूद को मैं देख रहा था | फिर मैंने कुछ समय के बाद उस लड़की से हसी मजाक शुरु कर दिया | वो लड़की उस दिन मुझ से पट चुकी थी | इसलिए जब मैंने उस लड़की से उसका फोन नम्बर मंगा तो उस लड़की ने मुझे उसका फोन नम्बर दे दिया | गोदाम के अन्दर मैं उस लड़की से हसी मजाक कर रहा था | कुछ समय के बाद मैंने उस लड़की से साडी पहनने के लिए कहा | वो लड़की साडी पहन रही थी और मैं उसे साडी पहनने में सहायता कर रहा था | क्योकि उस लड़की ने छोटा लोवर और टी शर्ट पहना हुआ था इसलिए वो उसके उपर से साडी पहन रही थी | जब मैं उस लड़की को साडी पहनने में सहायता कर रहा था तब मैं उस लड़की को अपने बाहो पर ले लिया | कुछ समय के बाद मैं उस लड़की के होटो को चूम रहा था | उस लड़की ने मेरे साथ दिया | मैं उसके होटो को चूम रहा था और वो मेरे होटो को चूम रही थी | कुछ समय के बाद मैंने उस लड़की के दूद दबाया | जब उस लड़की के दूद को दबा चूका था तब उस लड़की के चूत को चोदने के लिए मैंने उसका पहना हुआ छोटा लोवर को उतारा और फिर उसकी चूत के अन्दर अपने हाथो को डाला | फिर उसकी चूत को अपने हाथो से सहलाने लगा | कुछ समय के बाद मैंने उस लड़की के चूत पर अपने लंड को अन्दर डाल दिया और फिर मैं उस लड़की को चोदने लगा |

जब मैंने उस लड़की को चोद लिया तो मैंने उस लड़की से कहा की अब तुम फुर्सत के समय पर मेरे पास आना | उस लड़की ने मुझ से कहा मैं तुम्हारे पास आ सकती हूँ | उसके पास मेरे फोन नम्बर था इसलिए वो घर चली गयी | अगले दिन मैंने उस लड़की को फोन लगाया और पूछा तुम कहा पर हो | तब उस लड़की ने मुझे बताया की मैं घर के बाहर अपनी स्कूटी से घूम रही हूँ | उस लड़की ने मुझ से कहा की फिलहाल मैं अभी नही आ सकती हूँ क्योकि उसे उसकी बहन को लेकर कही किसी वजय से जाना है | इसलिए वो लड़की नही आ पाई | वो लड़की मुझ से मिलने के लिए सिर्फ कभी कभी आती थी और फिर चली जाती थी | एक दिन उस लड़की ने मेरे दुकान पर उसकी बहन को लाया था | उसकी बहन मेरी दुकान पर थी लेकिन उसकी बहन को टी शर्ट और लोवर लेना था इसलिए मैंने उस लड़की से कहा की तुम कुछ महीनो के बाद तुम्हारी बहन को जब लाओगी तब मैं टी शर्ट लोवर भी रखना शुरु कर दूंगा | कुछ महीने के बाद वो लड़की उसकी बहन के साथ मेरी दुकान पर आई | फिर मैंने उस लड़की और उसकी बहन के सामने टी शर्ट रख दिया |

वो लोग टी शर्ट का रंग छाटने में लग गये तभी उसकी बहन को मैंने टी शर्ट पहनने के लिय कहा और वो टी शर्ट पहनने के लिए चली गयी | उसकी बहन ने एक पारदर्शी टी शर्ट पहना था जो की मेरी दुकान वाली टी शर्ट थी | जब उस लड़की ने उस पारदर्शी टी शर्ट को पहना था तब उसके ब्रा दिख रहे थे | उसके बड़े दूद आसानी से देखे जा सकते थे | लेकिन उस लड़की ने उस पारदर्शी टी शर्ट को नही खरीदा | पारदर्शी टी शर्ट मैं इसलिए रखा करता था ताकि जब कोई लड़की आये तो मैं उन्हे इस पारदर्शी टी शर्ट को पहनने के लिए दे सकू | उस दिन उसकी बहन ने किसी अन्य टी शर्ट को खरीदा और वो लड़की उसकी बहन के साथ चली गयी | मुझे लेकिन उस दिन का इन्ताजार था जब उसकी बहन अकेले आती और मैं उसको आसानी से चोद पाता | मैंने चालाकी से उस लड़की का फोन नम्बर ले लिया था | मैं उस लड़की को फोन लगाया करता था की मेरी दुकान से आप उधारी करके भी कपडे ले जा सकते हो | उस लड़की को मेरा प्रसताव पसन्द आया | उस लड़की ने मुझ से कहा की मैं आपके दुकान पर आने वाली हूँ |

जब उस लड़की ने मुझे फोन पर ऐसा बताया तो मैंने उस लड़की से पूछा की तुम्हारी बहन नही आने वाली है क्या | तब उस लड़की ने मुझे बताया की उसकी बहन किसी वजय से शहर के बाहर गयी हुई है इसलिए वो मेरे साथ नही आ सकती है | मुझे तो सिर्फ इसी मौके का तलाश था | कुछ दिन के बाद वो लड़की मेरे दुकान पर पहुच गयी | जब वो लड़की मेरे दुकान पर पहुच गयी तब मैंने उससे कहा की आप क्या लोगी फिर मैंने उसके लिए समोसा मंगवाया | उस लड़की को चाय नास्ता देने के बाद मैंने उस लड़की से कहा की आप मेरी दुकान से कपडे उधारी पर ले जा सकते हो | वो लड़की उस दिन रुपय लेकर आई थी लेकिन मैंने उस लड़की से रुपय नही लिया ताकि मैं उस लड़की को उधारी के बहाने आसानी से फोन लगा सकू | जब भी मेरे पास फुर्सत का समय रहता था तब मैं उस लड़की को फोन लगाया करता था | उस लड़की को फोन लगाकर उस लड़की से पूछा करता था की दूकान में नया कपडा आया है क्या आपको लेना है | वो लड़की मुझ से खुस थी इसलिए वो मेरे दुकान अकेले आया करती थी | कभी वो लड़की उसकी सहेली और कभी वो अकेले आया करती थी |

एक दिन मुझे मौका मिल गया की मैं उस लड़की को आसानी से चोद सकू | वो लड़की मेरे दुकान कपडे खरीदने के लिए आई थी | उस लड़की को उस दिन मुझे चोदना था इसलिए मैंने उस लड़की को अपने गोदाम के अन्दर बुलाया | उस लड़की को पहले मैंने कपडे दिखाया | जब उस लड़की को उसके रंग वाली कपडे नही मिल रहे थे तब मैंने उस लड़की को गोदाम के अन्दर आने के लिए कहा | जब वो लड़की गोदाम के अन्दर आ गई तब मैंने उस लड़की से कहा की तुम कपडा तलाश करो और वो लड़की गोदाम पर रुककर कपडे तलाश करने लगी | फिर कुछ समय के बाद मैंने उस लड़की को अपने गले लगा लिया | उस लड़की ने भी मेरा साथ दिया | वो लड़की मेरे होटो को चूमने लगी | उसके बाद मैंने उस लड़की की चूत को जीब से चाटना शुरु कर दिया | चूत को चाटने के बाद मैंने अपना लंड उसके चूत में डाला और उसे चोदने लगा | कुछ समय के बाद मेरे लंड से माल निकल कर बाहर आने लगा | फिर मैंने अपने लंड से निकल रहे माल को उसके दूद पर गिराया | तब कुछ समय के बाद उस लड़की ने मुझ से कहा की कोई आ सकता है तब मैंने बताया की गोदाम के अन्दर कोई नही आ सकता है जब तक मैं उसे अन्दर आने के लिए नही कहू | फिर मैंने उस लड़की से कहा अब तुम चले जाओ | उस लड़की ने मुझ से कहा जब वो फुरसत रहेगी तब वो मुझ से मिलने के लिए आएगी |

एक दिन वो लड़की मेरी दुकान पर अकेली आई थी | जब वो लड़की मेरी दुकान पर आई थी तब मैं उस लड़की को अपने दुकान के अन्दर चलने के लिए कहा और वो मेरे दुकान के अन्दर घुस गयी | फिर मैं उस लड़की के दूद दबाने लगा | दूद दबाने के बाद फिर मैंने उसके होटो को चूमा | जब मैंने उसके होटो को चूमा फिर मैंने उसकी चूत में हाथ डाला | तब उसकी कोई सहेली मेरे दुकान पर खड़ी थी | उसकी सहेली दुकान के बाहर थी और दुकान के अन्दर घुसते हुए उसने उस लड़की को देख लिया था इसलिए उसने मुझे फोन लगाया ताकि वो मुझ से मिल सके | उसका फोन आने पर उस लड़की को दुकान से बाहर जाना पड़ा | उसकी सहेली को मालूम चल गया था की उस लड़की से मेरा सम्बन्द चल रहा है | मैंने उस लड़की से कहा तुम्हारी सहेली ने मुझे तुमको चुमते हुए देख लिया है इसलिए वो लड़की से तुम कहना की वो किसी को नही बताये | उस लड़की ने मुझ को अस्वासन दिया की वो लड़की किसी को कुछ नही बताएगी | फिर वो लड़की मेरे दुकान से चली गयी | मुझे उसकी सहेली को मेरे विषय में बताने के लिए रोकने के लिए मैंने उस लड़की से कहा की तुम तुमारी सहेली को लेकर आना क्योकि मैं उसके लिए एक प्रस्ताव देने वाला हूँ की वो उधारी पर कपडे ले जा सकती है  | उसकी लड़की की सहेली को मेरे प्रस्ताव पसन्द आया और वो मेरे कपडे खरीदने के लिए तयार हो गयी | मैं उस लड़की की सहेली को बहलाने के लिए उस लड़की को छुट भी दिया करता था ताकि उस लड़की को पट्टा सकू | कुछ दिन के बाद उसकी सहेली को पट्टा लिया और मैंने ऐसा इसलिए किया ताकि उसकी सहेली को मेरे विषय में बताने से रोक पाऊ की उस दिन मैं उस लड़की के होटो को चूमा था |