कपड़े धुलवाने आई लडकी को चोदा


Click to Download this video!

hindi sex story, kamukta हेल्लो दोस्तो | आज आपके लिए मैं कुछ नया लेकर आया हूँ | आज आप जो सुनने वाले हो | उसे जानकर आप अचेम्बे में पड़ जायेंगे | अब मैं आपको सुनाता हूँ की उस दिन क्या हुआ था जब मेरी दुकान पर एक लड़की कपडे धुलवाने के लिए आई थी | मेरे घर पर लोग आते थे और मुझ को कपडे धोने के लिए दिया करते थे | वो लड़की एक रहीस लड़की थी और वो मेरे घर कपड़ो का एक बन्डल ले कर आई हुई थी | वो लड़की मेरे पड़ोस में रहती थी | इसलिए जब वो मेरे घर पर कपडे देने के लिए आई हुई थी तो मेरे घर पर बैठी हुई थी तभी मैंने उस लड़की को चोदा | चलिए जानते है की मैंने उस लड़की को किस वजह से चोदा | मैं एक धोबी हूँ जो की कपडे धोकर उसकी जीविका चलाया करता है | मेरी एक दुकान है जहा पर लोग उनके कपडे धोने के लिए मुझे दिया करते थे |

एक दिन वो लड़की जिसको की मैंने अपने घर पर चोदा था मैं उस पड़ोस वाली लड़की के घर पर गया हुआ था | उस लड़की के पापा से मेरा खास परिचय हो गया था | उस लड़की के पापा मुझ से कहा करते थे की रविवार के दिन मेरे घर पर आना और मैं तुम्हे कपड़ो का एक बंडल धोने के लिए दूंगा | इसलिए मैं उस पड़ोस वाली लड़की के घर पर जाता था और उस लड़की के घर का दिया हुआ कपड़ो का बन्डल अपने घर पर लाता था | इतना ही नही मैं उस लड़की के पापा के कपडे धोने के बाद उस लड़की के घर पर कपडे पहुचाने के लिए जाता था | जब मैं उस लड़की के घर पर कपडे पहुचाने के लिए जाता था तब वो लड़की और उसके पापा मुझे मिला करते थे | उस लड़की के पापा मुझ को अपने घर पर बैटने के लिए कहा करते थे | मैं उस लड़की के पापा के साथ घर पर बैठ कर उन से बात किया करता था | कुछ समय तक उसके पापा से बात करने के बाद मुझे वो लड़की खाने के लिए नास्ता दिया करती थी | जब भी मैं उस लड़की के घर पर कपडे पहुचाने के लिए जाता था तो उस लड़की के घर से बिना नास्ते किया मुझे घर से लौटने के लिए नही देते थे |

मैं जब भी उस लड़की के घर पर पहुचा करता था तब मैं उस लड़की से हसी मजाक किया करता था | उस लड़की को मेरा हसी मजाक करना पसन्द आता था | मुझे उस लड़की के पापा उनके घर का एक सदस्य मानते थे | मैं उनके घर का एक सदस्य बन गया था | इसलिए जब उस लड़की के पापा घर पर नही रहते थे तब भी मैं उस लड़की के घर पर उस लड़की के साथ अकेले रहा करता था | एक दिन जब मैं उस लड़की के साथ घर पर अकेला था तब उस लड़की से मिलने के लिए उसके घर पर गया हुआ था वजय कुछ नही थी एक साधारण सी वजय थी की मुझे उस लड़की के घर इसलिए जाना पड़ा था क्योकि उस लड़की के पापा के कपडे धोने के बाद मैंने सुखाया और कपड़ो को मोडकर तयार करने के बाद मुझे उस लड़की के घर पर पहुचने के लिए जाना पड़ता था |

Loading...

एक दिन वो लड़की घर पर अकेली थी तब मैं उस लड़की के घर गया हुआ था और वो लड़की घर पर अकेली थी तब मैं उस लड़की से उसके घर पर हसी मजाक कर रहा था | हसी मजाक करने के दौरान मैंने उस दिन वो किया जिसके वजय से वो लड़की ने मुझे एक खास बन्दा मानने लगी | वो लड़की घर पर कपडे पहन रही थी तब मैं उस लड़की के घर के अन्दर घुस गया था | मेरे लिए उस लड़की के घर के अन्दर घुसना सरल था | पहेले मैंने उस लड़की से कहा की क्या कोई घर पर है तब उस लड़की ने मुझे से कहा हा तुम घर के अन्दर आ सकते हो | उस लड़की के ऐसा कहने पर मैं उस लड़की के घर के अन्दर घुस गया | उस लड़की ने फिर मुझे कहा की तुम कपडे कही भी रख दो और फिर मैं उस लड़की के कपडे को रखने के लिए जगह तलाश करने लगा | कपडे रखने के लिए जगह तलाश करने के दौरान मैं उस लड़की के कमरे में घुस गया जहा पर वो लड़की उसके कपडे बदल रही थी | जब उस लड़की ने मुझे देखा तो वो हसने लगी और फिर मैं उस लड़की के कमरे से बाहर आ गाया | जब मैं उस लड़की के कमरे से बाहर आ गया तब मैं उस लड़की के बैठक वाले कमरे पर बैठा हुआ था | बैठक वाले कमरे पर बैठकर मैं उस लड़की का फिर इन्तजार कर रहा था | फिर वो लड़की कपडे पहनकर बैठक वाले कमरे पर आई तब वो लड़की मुझे देखकर हसने लगी क्योकि मैं उसके कमरे पर घुसा जब वो लड़की कपडे बदल रही थी |

कुछ देर तक मैं उस लड़की से हसी मजाक कर रहा था फिर मैंने उस लड़की को अपने बाहो में ले लिया और फिर उस लड़की ने मेरे होटो को चूमा | कुछ समय के बाद उस लड़की ने मेरे लंड को चुसना शुरु किया | तभी उस लड़की का कोई परिचय वाला दरवाजे से लड़की का नाम ले रहा था और उसे बाहर बुला रहा था | उस लड़की ने फिर मुझ से कहा की तुम अभी रुको मैं कुछ समय के बाद तुम से मिलने के लिए आती हूँ | तब मैं घर के अन्दर से उस लड़की को देख रहा था जब वो लड़की उसके किसी परिचित वाले से मिलने के लिए जा रही थी | वो कोई पड़ोस का लड़का था जो की उसे कुछ देने के लिए आया हुआ था | फिर वो लड़की उससे कुछ लेने के बाद घर पर लौटकर आई | जब वो लड़की घर पर लौटकर आई तो उस लड़की ने उसके घर का दरवाजा बन्द कर लिया | तब फिर क्या था मैंने वो किया जो मुझे करना था | मुझे उस लड़की को चोदना था | इसलिए मैंने फिर उस लड़की के कपड़ो को उतारा | जब कपडा उतार दिया तो फिर मैं उस लड़की के दूद को अपने मुह से पीने लगा | दूद को पीने के बाद मैंने फिर उस लड़की की चूत को चाटने का फैसला किया |

मैंने जब उसकी चूत को चाट लिया फिर मैं उस लड़की के अन्दर अपना लंड को घुसेड दिया | कुछ समय तक तो लंड का अन्दर जाना और बाहर आना चलता रहा | फिर मेरे लंड ने उलटिया करना शुरु किया | मेरे लंड से मलाई की उलटी होना शुरु हो गया | जब मेरे लंड से मलाई की उलटी हो रही थी तब मैंने उस लड़की से कहा की तुम अब मेरा लंड तुम्हारे मुह के अन्दर ले लो और उस लड़की ने ऐसा ही किया | वो मेरे लंड को अपने मुह के अन्दर ले कर मेरे लंड को चुस्ती रही और कुछ समय मेरे लंड से निकल रहे मलाई को पीती रही | ऐसा करना किसी लड़की को मेरे लंड से निकल रहे मलाई को पिलाना मेरे लिए एक नया अनुभव था | जब उस लड़की ने मेरे लंड से निकल रहे मलाई को पी लिया तो मेरे लंड से मलाई आना रुक गया तब मैंने उस लड़की को चोदना रोक दिया | फिर उस लड़की ने उसके कपडे पहन लिए और मैं उसके घर से बाहर चला आया | लेकिन जब मैं उस लड़की के घर से बाहर आ रहा था तभी एक लड़का ने मुझे देख लिया की मैं उस लड़की के घर से बाहर निकल रहा हूँ | कुछ समय तक तो ऐसा लग रहा था की उस लड़के को मालूम चल गया है | एक दिन आखिरकार मैंने जान लिए की उस लड़के की सच्चाई क्या है | वो लड़के उस लड़की के पड़ोस में रहता था और वो लड़का आसानी से उस लड़की के घर आता जाता था |

एक दिन मुझे मालूम चल गया की वो लड़का उसका बॉयफ्रेंड है | इसलिए जब भी मैं उस लड़की के घर कपडे पहुचाने के लिए जाता था तब वो लड़के मुझे घुरा करता था | मैं जब उस लड़की के घर पर घुसता था तो वो लड़का बाहर से मुझे देखा करता था | एक दिन मुझे उस लड़के की सच्चाई मालूम चल गयी जब मैं उस लड़की के घर पर पहुचा तब मैंने देखा की वो लड़का उस लड़की की चूत को चाट रहा था | उस लड़के के घर पर घुसने के बाद मैंने देखा की वो लड़का चूत को चाटने के बाद फिर उस लड़की के गाड को उसके हाथ से दबा रहा था | गाड को दबाने के बाद वो लड़के ने फिर उस लम्बा लंड उसकी चूत में डालकर चोद रहा था | जब मैंने उस लड़के को ऐसा करते हुए देखा तो मुझे उस लड़के की सच्चाई मालूम चल गयी | वो लड़का उसका बॉयफ्रेंड था इसलिए उस लड़के से मुझे बचकर रहना पड़ा ताकि उस लड़के को मेरे विषय में मालूम न चल जाये क्योकि मैं भी उस लड़की का बॉयफ्रेंड बन गया था | एक दिन जब मैं घर पर अकेला था तब वो लड़की ने मुझ फोन किया और कहा की तुम कहा पर हो | तब मैंने उस लड़की को बताया की मैं घर पर हूँ | तब मैं लोगो के घर से लाये हुए कपड़ो को धो रहा था | उस लड़की ने मुझे इसलिए बुलाया था क्योकि उस लड़की को कही पर जाना था | उस लड़की के पास गाडी नही थी | इसलिए उस लड़की को कही भी जाना रहता था तो वो मुझे फोन लगाया करती थी |

मैं भी उस लड़की का फोन आने पर उस लड़की के घर पर पहुच जाता था | फिर वो लड़की उसके चहरा पर कपडा पहन लेती थी | उस लड़की को फिर जहा पर भी पहुचना होता था मैं उस लड़की को पहुचा दिया करता था | कुछ महीनो तक उस लड़की को पहुचाने का सिलसिला चलता रहा | एक दिन जब मैं उस लड़की को अपनी गाडी पर बैठालकर कही ले जा रहा था तभी उस लड़की के पापा ने मुझे पकड लिया था | उस लड़की के पापा को उस लड़के ने बता दिया की उस लड़की का मैं बॉयफ्रेंड हूँ | लेकिन मुझ से पहले वो लड़का उस लडकी का बॉयफ्रेंड था | उस लड़के को मेरे विषय में मालूम चल गया था इसलिए उस लड़के ने मुझे उसके पापा से पकड़ा दिया था | जब उस लड़की के पापा ने मुझे उस लड़की के साथ पकड़ा तब उस लड़की के पापा के साथ वो लड़का भी वहा पर मौजूद था | उस दिन के बाद से वो लड़का मेरे घर के आस पास घुमा करता था | वो लड़का ये मालूम करने की कोशिशि में लगा रहता था कही मैं अब भी उस लड़की को अपनी गाडी से तो नही घुमाता हूँ | भले उस लड़की को मैं अब अपनी गाडी से नही घुमा पाता हूँ लेकिन उस लड़की का नम्बर अब भी मेरे पास है |

इस अन्तर्वासना कहानी को शेयर करें :

Online porn video at mobile phone