ऑफिस की लड़की को होटल के कमरे में चोदा


office sex stories

मेरा नाम अजय है और मैं चंडीगढ़ का रहने वाला हूं। मैं चंडीगढ़ में ही नौकरी करता हूं और मेरी उम्र 28 वर्ष है। मुझे नौकरी करते हुए ज्यादा समय तो नहीं हुआ है लेकिन मैं जिस कंपनी में काम करता हूं वहां का सारा स्टाफ बहुत ही अच्छा है और सब लोग एक दूसरे का हमेशा ही साथ देते है। वह समय मिलने पर कहीं ना कहीं घूमने के लिए जाते रहते हैं। मैं भी कई बार अपने ऑफिस के काम के सिलसिले में बाहर जाता रहता हूं। एक दिन बहुत तेज बारिश हो रही थी और उस दिन मैं अपनी कार से जा रहा था। मैं जब अपने काम से जा रहा था तो आगे एक लड़की मुझे हाथ दे रही थी, वह बारिश में पूरी तरीके से भीगी हुई थी, बारिश बहुत ज्यादा तेज थी इसलिए आगे साफ-साफ कुछ दिखाई नहीं दे रहा था।

मुझे लगा शायद उसे कुछ जरूरत है इसलिए मैंने उसे देखकर गाड़ी रोक ली और जैसे ही वह मेरी गाड़ी में बैठी तो उसने मुझे बैठते ही धन्यवाद कहा और कहने लगी कि यदि तुम गाड़ी नहीं रोकते तो मैं समय से नही पहुंच पाती। मैंने उसे पूछा कि आप कहां से हो, वह कहने लगी कि मैं मुंबई से आ रही हूं और मुझे अभी चंडीगढ़ के बारे में कुछ भी पता नहीं है इसलिए मैं रास्ता भटक गई और तब तक बारिश भी बहुत तेज हो गई, मुझे कुछ भी कन्वेंस नहीं मिल रहा था इसीलिए मैं यहीं पर खड़ी होकर इंतजार कर रही थी। मैंने कई लोगों को हाथ दिया लेकिन किसी ने भी गाड़ी नहीं रोकी वह मेरे साथ कार में ही बैठी हुई थी, मैंने उससे पूछा कि आपको कहां पर जाना है,  उसने मुझे कहा मुझे तो पता नहीं लेकिन मैं आपको एड्रेस दिखा देती हूं उसने अपना मोबाइल निकालते हुए मुझे एड्रेस दिखा दिया। जब उसने मुझे एड्रेस दिखाया तो मैंने उसे कहा कि यह तो मेरे घर के पास में ही है, मैं भी उधर से होते हुए जाऊंगा तो मैं आपको वहीं पर छोड़ देता हूं। मेरा घर मेरे ऑफिस से काफी दूर था इसलिए मुझे मेरे घर से आने में समय लगता है। हम दोनों बैठ कर बात कर रहे थे, जब मैंने उनसे उनका नाम पूछा तो कहने लगी मेरा नाम पायल है। मैंने उनसे पूछा कि आप कुछ काम के सिलसिले में यहां आई हुई हैं या फिर आप घूमने के लिए आए हैं। वह कहने लगी कि मैं अपने ऑफिस के काम के सिलसिले में यहां पर आई हुई हूं।

मैंने जब उनसे उनके कंपनी का नाम पूछा तो उन्होंने जिस कंपनी का नाम बताया, मैंने उन्हें कहा कि मैं भी इसी कंपनी में नौकरी करता हूं। उन्होंने मुझसे हाथ मिलाया और कहने लगी कि मैं मुंबई में हेड ऑफिस में काम करती हूं और कंपनी ने हीं कुछ समय के लिए मुझे यहां पर भेजा है क्योंकि मुझे यहां पर सर्वे करना है, उसकी वजह से मुझे कंपनी ने मुंबई से चंडीगढ़ भेजा है। अब वह मुझसे खुलकर बातें करने लगी और मुझसे पूछने लगे कि तुमने यहां पर कब जॉइनिंग किया, मैंने पायल को बताया कि मुझे ज्यादा समय नहीं हुआ है। मैंने जब पायल से पूछा कि तुम्हें इस कंपनी में काम करते हुए कितना वक्त हो चुका है, वह कहने लगी कि मुझे यहां पर काम करते हुए 3 वर्ष से ऊपर हो चुका है और मेरा प्रमोशन भी हो गया है इसी वजह से मैं बाहर के जितने भी ऑफिस है उनका काम देखती हूं और उन शहरों का सर्वे करती हूं। मैंने पायल का नंबर ले लिया। मैंने उसे कहा कि आपको कोई भी जरूरत हो तो आप मुझे फोन कर देना क्योंकि मेरा घर आपके होटल के पास ही है। मैंने उनसे पूछा कि आप कितने समय के लिए यहां पर रहेंगी, तो पायल कहने लगी कि मैं यहां पर दो महीने तक हूं। मैंने पायल से कहा की चलो यह तो बहुत अच्छी बात है यदि आप दो महीने तक यहां पर है तो, दो महीने तक हम लोग साथ में समय बिता सकते हैं। वह भी मुझसे खुलकर बातें करने लगी और मुझे ऐसा लग रहा था जैसे हम दोनों के बीच दोस्ती हो चुकी है क्योंकि पहली मुलाकात में ही कोई व्यक्ति इतनी बात नहीं करता लेकिन पायल का नेचर बहुत ही फ्रेंड किस्म का है इसलिए वह मुझसे बात कर रही थी। पायल का होटल आ चुका था जहां पर वह रुकने वाली थी। मैंने उसे बताया कि यही होटल है और यहां पर आप को रुकना है। मैंने पायल का सामान अपनी गाड़ी से उतारते हुए उसे उसके रूम तक छोड़ दिया। जब मैंने उसे उसके रूम पर छोड़ा तो वह मुझे कहने लगी कि तुमने मेरी बहुत ही मदद की, उसके लिए मैं तुम्हें धन्यवाद कहना चाहती हूं। मैंने पायल से कहा कि धन्यवाद की कोई बात नहीं है यदि मैंने आपका काम किया, आप मुझे अपना अच्छा दोस्त समझ सकती हैं और एक दोस्त ने भी दूसरे दोस्त की मदद कर दी तो उसमें कोई मदद वाली बात नहीं है।

यह बात सुनकर पायल मुस्कुराने लगी और मैंने उसके बाद उसे कहा मैं अब चलता हूं क्योंकि मुझे घर के लिए देर हो रहा है यदि आपको कोई भी परेशानी या कुछ भी चाहिए हो तो आप मुझे फोन कर दीजिएगा। यह कहते हुए मैं अपने घर पहुंच गया। मैं जब घर पहुंचा तो मुझे कुछ काम करना था इसलिए मैं अपने लैपटॉप में बैठकर काम कर रहा था। जब मैं लैपटॉप में बैठ कर काम कर रहा था तो उसी वक्त पायल का भी फोन आ गया और वह कहने लगी कि यदि तुम्हें कोई आपत्ति ना हो तो सुबह तुम मुझे ऑफिस अपने साथ ले जा सकते हो, मैंने उसे कहा कि मैं आपको अपने साथ ऑफिस ले जा दूंगा। वह कहने लगी कि मुझे क्योंकि रास्ते के बारे में पता नही है इसलिए मैंने तुमसे मदद मांगी। मैंने उसे कहा कि आप सुबह तैयार हो जाना और जब आप तैयार हो जाए तो मुझे फोन कर देना, मैं उस वक्त आपके होटल के बाहर आ जाऊंगा। सुबह जब मुझे पायल ने फोन किया तो मैं तैयार हो चुका था और अब मैं उसे लेने के लिए उसके होटल में चला गया। मैं जब होटल के बाहर पहुंचा तो मैंने पायल को फोन किया और कहा कि आप तैयार हो गई हो तो मैं बाहर पहुंच चुका हूं आप आ जाइए, वो कहने लगी बस कुछ देर में आती हूं, मैंने अपने गाड़ी में हल्की आवाज में गाने लगा दी और पायल का इंतजार करने लगा, 10 मिनट बाद वह आ गई और मुझे कहने लगी कि मेरी वजह से तुम्हें ऑफिस के लिए लेट हो जाएगा। मैं कहने लगा कि मुझे भी तो वही जाना है और इस बात से वह हंसने लगी।

जब हम लोग ऑफिस पहुंचे तो पायल हमारे ऑफिस के मैनेजर से मिली और मैं अपने काम पर ही लगा हुआ था। उस दिन मैंने अपना काम खत्म कर लिया और पायल भी जल्दी होटल लौट चुकी थी। मैं जब शाम को अपने ऑफिस से घर लौट रहा था तो मैंने सोचा मैं पायल से फोन पर बात करता हूं और उससे पूछता हूं कि वह कहां पर है। मैंने जब पायल को फोन किया तो वह कहने लगी कि आज तो मैं जल्दी वापस लौट आई क्योंकि मुझे कल से काम करना है इसीलिए मैं जल्दी वापस आ गई। पायल मुझे कहने लगी कि तुम कहां पर हो, मैंने उसे बताया कि मैं ऑफिस से वापस लौट रहा हूं। पायल ने मुझे कहा कि तुम जब वापिस आ रहे हो तो कुछ देर के लिए होटल में आ जाना क्योंकि मुझे तुम्हें कुछ फाइल देनी है, कल तुम वह फाइल ऑफिस में दे देना, क्योंकि तुम ऑफिस जाओगे और मुझे कहीं और काम है, मैंने उसे कहा ठीक है मैं कुछ देर में आपके पास पहुंच जाऊंगा, वह फाइल मुझे दे देना। जब मैं होटल के बाहर पहुंच गया तो मैं उनके रूम में चला गया। मैंने जब पायल के रूम की बेल बजाई तो पायल ने दरवाजा खोल दिया और कहने लगी कि तुम कुछ देर बैठ जाओ मैं तुम्हारे लिए कुछ मंगवा देती हूं, उसने मेरे लिए कॉफी ऑर्डर करवा दी और वह मुझे कहने लगी कि कल यह फाइल तुम ऑफिस में दे देना। मैंने पायल से कहा कि आप चिंता मत कीजिए, मैं यह फाइल कल ऑफिस में दे दूंगा। पायल ने बहुत ज्यादा पतली सी निक्कर पहनी हुई थी जिसमें कि उसकी गांड की लकीरें साफ साफ दिखाई दे रही थी और उसकी गांड उसमें पूरी दिखाई दे रही थी। मैंने जब उसकी गांड पर हाथ मारा तो उसकी गांड हिलने लगी क्योंकि वह बहुत ज्यादा मुलायम थी और वह मेरे इशारे समझ चुकी थी।

मैंने उसे पकड़ते हुए बिस्तर में लेटा दिया और उसके होठों को में चूमने लगा। मैंने उसके होठों को बहुत देर तक चूसा उसके गुलाब की पंखुड़ी जैसे होठ मेरे होठो से मिलते तो मुझे बहुत अच्छा महसूस होता। मैंने उसे बहुत देर तक चूसा मुझे मजा आने लगा उसका भी पूरा शरीर गर्म होने लगा था। मैंने उसके स्तनों को चूसना शुरू कर दिया काफी देर तक मैं उसके स्तनों को चूसता रहा उसे बहुत अच्छा लगता जब मैं उसके स्तनों को चूसता वह पूरी उत्तेजना में आ चुकी थी। मैंने उसकी योनि में जैसे ही उंगली लगाई तो उसका पानी बाहर निकल रहा था मैंने उसके दोनों पैरों को चौड़ा करते हुए उसकी योनि में अपने लंड को डाल दिया। जैसे ही मेरा लंड उसकी योनि के अंदर घुसा तो मुझे अच्छा महसूस होने लगा और उसकी योनि बहुत ज्यादा टाइट थी इसलिए वह मेरे लंड को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी। मैं उसे बहुत तेज धक्के मार रहा था मैंने उसके दोनों पैरों को मिला लिया और उसे बड़ी तेजी से चोदना शुरू कर दिया। मैंने इतनी तेज से चोदा की उसका पूरा शरीर गर्म होने लगा और उसे बहुत मजा आने लगा। ऐसा करने के बाद मैंने उसे अपने ऊपर लेटा दिया उसकी योनि में जब मेरा लंड गया तो वह अपनी चूतडो को ऊपर नीचे करने लगी और मैं उसके स्तनों का रसपान करने लगा। मैंने उसके स्तनों का बहुत  अच्छे से  रसपान किया  लेकिन अब उसकी योनि से कुछ ज्यादा गर्मी बाहर बाहर की तरफ निकालने लगी मेरा भी पसीने से बुरा हाल हो गया। उस वक्त मेरा वीर्य बड़ी तेजी से उसकी योनि में जा गिरा और मेरा सारा माल उसके योनि में ही गिर गया। पायल को बहुत ही अच्छा महसूस हुआ और वह जितने दिन तक होटल में रुके उतने दिन तक मैं उसके साथ ही रहता था।